90 साल की इस बुजर्ग म’हिला ने दी कोरो’ना को मा’त, 24 घंटे ICU में….

0
260

कोरो’ना संक्र’मण के मामले देश मे तेज़ी से बढ़ते जा रहे हैं। और पूरे देश में तकरीबन आठ लाख से ज़्यादा केस हो चुके है और 22 हज़ार से ज़्यादा लोग कोरो’ना की चपे’ट में आकर अपनी जा’न से हाथ धो बैठे हैं। वही मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में भी कोरो’ना वाय’रस (Corona virus) के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। राहत की बात ये है कि रिकवरी रेट इस वक़्त सही है और लोग ठीक भी हो रहे हैं। इसी बीच एक खबर मिली राजधानी की सबसे ज़्यादा उम्र वाली महिला जिनकी उम्र 90 साल है। अनीषा बी (Anisha B) ने कोरो’ना वाय’रस को ह’रा दिया है। अनीषा बी (Anisha B) ने कोरो’ना को मा’त दी और अब स्वस्थ होकर अपने घर लौट गई हैं। उन्हों का कहना है कि, कोरो’ना को उन्होंने दवा के साथ-साथ अपने आ’त्मविश्वा’स से ह’राया है और अब इस खबर की चर्चा पूरे शहर में हो रही है। घर जाते समय अनीषा बी (Anisha B) ने और म’रीजों को भी विक्ट्री साइन दिखाकर भरोसा दिलाया की इच्छा हो तो सब कुछ आसान है।

अनीषा बी (Anisha B) की उम्र 90 साल है और यह बुजुर्ग महिला भोपाल एम्स (Bhopal AIIMS) में एडमिट थीं। कहा जा रहा है कि उन्होंने कोरो’ना को हरा कर ये साबित कर दिया है कि वाकई मन के हा’रे हा’र और मन के जीते जीत है। भोपाल एम्स (Bhopal AIIMS) से जानकारी पर पता चला कि अनीषा बी अशोका गार्डन की रहने वाली है और उन्हें खांसी और सांस लेने में दि’क्कत हो रही थी। ऐसे में जब उनकी कोरो’ना जां’च कराई गई तो उनकी रिपोर्ट कोरो’ना पॉजिटिव पाई गई। और फिर उन्हें भोपाल एम्स (Bhopal AIIMS) में एड’मिट कराया गया और वहां उनका इला’ज हुआ। अनिषा बी की ट्रेवल हिस्ट्री निकलने पर पता चला कि वह न तो किसी यात्रा पर गयी थीं और न ही वो किसी के संपर्क में आई थीं। सांस लेने में दिक्कत होने की वजह से अनीषा बी (Anisha B) को हाईफ्लो ऑक्सीजन और एंटीबायोटिक पर रखा गया था।

90 साल की बुज़ुर्ग औरत अनीषा बी की 27 जुलाई को कोरो’ना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी। इसके बाद म’रीज की गं’भीर हालत को देखते हुए 24 घंटे की निगरानी में आईसीयू में रखा गया। जब उनकी हालत में सुधार आया तो दोबारा उनकी कोरो’ना की जां’च की गई और दोनों रिपोर्ट आने पर म’रीज़ को डि’स्चार्ज कर दिया गया। डि’स्चार्ज होने से पहले अनीषा बी ने मेफिकेल स्टाफ के साथ एक फोटो खिंचवाया और विक्ट्री सिग्न भी दिखाया। अनीषा बी वैसे तो शारिरिक रूप से कम’ज़ोर हैं और ऐसा इस लिए है क्योंकि उनकी उम्र बहुत ज़्यादा है। जिसकी वजह से न तो वो चल पति है और न ही कोई मु’श्किल काम कर पाती हैं। लेकिन इस उम्र में भी उनके पक्के हौ’सले उनके साथ हैं। जिसकी वजह से केवल अनीषा बी ने न कोरो’ना को मा’त दी बल्कि कोरो’ना वार्ड में भर्ती अन्य म’रीजों को भरोसा भी दिलाया कि कठिन समय में जरूरी है खुद पर भरोसा रखना और इरादे मजबूत बनाना।