DMK ने राष्ट्रपति से की राज्यपाल को हटाने की मांग, लगाए गंभीर आरोप…

0
204

तमिलनाडु में सियासी घमासान लगातार जारी है। सत्तारूढ़ डीएमके लगातार राज्य के राज्यपाल को पद से हटाने की मांग कर रही है। इस बीच डीएमके और उनके सहयोगी दलों ने मिलकर राज्यपाल आरएन रवि को हटाने के लिए राष्ट्रपति मुर्मू से मांग की है। उन्होंने आरएन रवि के खिलाफ कई आरोप भी लगाए हैं। डीएमके और उनके सहयोगी दलों का कहना है कि राज्यपाल आरएन रवि राज्य में नफरत फ़ैलाने का काम कर रहे हैं। पहले सिर्फ डीएमके ही राज्यपाल के खिलाफ थी, लेकिन अब उन्होंने अपने साथ कई और लोगों को भी जोड़ लिया है। जो उनके साथ राज्यपाल को हटाने की मांग कर रहे हैं।

डीएमके का कहना है कि “राज्यपाल जो अपनी संवैधानिक भूमिका का पालन करते हैं, अब एक विलुप्त प्रजाति हैं। 2014 के बाद से नियुक्त हर एक का अपमान किया गया है और ‘हम दो’ की धुन पर नाचने से पहले ही वह धुन भी बजाई गई है।” डीएम की ओर से राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को सौंपे गए ज्ञापन में राज्यपाल को ‘शांति के लिए खतरा’ बताया गया है। इसमें लिखा गया है कि “राज्यपाल तमिलनाडु विधानसभा द्वारा पारित विधेयकों को मंजूरी देने में अनावश्यक देरी करते हैं। उन्होंने लोगों के लिए काम करने के लिए एक लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकार को बाधित किया है।”

इसके साथ ही इसमें लिखा गया कि “राज्यपाल सांप्रदायिक नफरत को भड़काते हैं और वह राज्य की शांति के लिए खतरा हैं। उन्होंने यह साबित कर दिया कि वह राज्यपाल के संवैधानिक पद पर रहने के योग्य नहीं है, उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए। कुछ लोग उनके बयानों को राजद्रोह भी मान सकते हैं, क्योंकि वह बयानों से सरकार के खिलाफ अलगाव पैदा करते हैं।”