रिजर्व बैंक ने दी खाताधा’रकों के लिए राहत की यह खबर..

0
215

यस बैंक पर लगाए प्रतिबं’ध के चलते अब खाताधा’रकों को मिल सकेगी चैन की नींद। मंगलवा’र को यस बैंक ने कहा कि उसके कस्टमर्स अपने क्रेडिट कार्ड और लोन का भुगतान दूसरे खातों के ज़रिए कर सकते हैं। जिसपर पहले रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने प्रतिबं’ध लगा दिया था। रिजर्व बैंक द्वारा लगाए गए यस बैंक पर प्रतिबं’ध के बाद एटीएम और बैंक की अन्य शाखाओं के सामने पैसे निकालने के लिए बड़ी बड़ी कतारें लगना शुरू हो गई। और पैसे निकालने के लिए उन्हें बड़ी मुश्कि’लों का सामना करना पड़ रहा था।

प्रतिबं’ध के कार’ण यस बैंक के ग्राहक अन्य प्लेटफॉर्म जैसे इंटरनेट बैंकिंग और डिजिटल भुगतान के जरिए भी पैसे नहीं निकाल पा रहे थे। जिसके साथ साथ विदेशी मुद्रा सेवाएं और क्रेडिट कार्ड सेवाएं भी काफी प्रभावित हुईं। यस बैंक ने अपने ग्रा’हकों को खुशखबरी देते हुए ट्वीट किया कि “आईएमपीएस/एनईएफटी सेवाएं अब बहाल हो गई हैं।” आगे बैंक ने लिखा कि “आप दूसरे बैंक खातों से यस बैंक के क्रेडिट कार्य बकाए और ऋ’ण देनदारियों का भुगतान कर सकते हैं।” साथ ही बैंक ने यह भी कहा कि उसके एटीएम भी पूरी तरह काम के रहे हैं और खाताधा’रक तय की गई धनराशि निकाल सकते हैं।

बता दें कि गुरुवा’र को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने यस बैंक पर प्रतिबं’ध लगाया था। जिसके तहत अकाउंट होल्डर्स 3 अप्रैल तक 50,000 रुपये निकालने की लिमिट तय की है। फिलहाल तो खाताधा’रक अपने अकाउंट से सिर्फ 50,000 रुपए से ज़्यादा नहीं निकाल सकते हैं। लेकिन आरबीआई ने यस बैंक के डिपॉजिटर्स को इस बात के लिए भी सुनि’श्चित किया है कि जो भी फैस’ला लिया जाएगा, वो उनके हित को ध्यान में रखते हुए लिया जाएगा।