निर्भ’या माम’ले में दो’षी के इस पैं’तरे से टल सकती है फां’सी की तारीख..

0
119

निर्भ’या सामूहिक बला’त्कार केस में दो’षियो को 3 मार्च को फां’सी होनी है, लेकिन दो’षी लगातार बचने के लिए पैं’तरेबाजी कर रहे है। फां’सी के तीन दिन पहले चारो दो’षियों में से अक्षय ने एक बार फिर दया याचिका दायर की। इससे पहले एक बार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद निर्भ’या के दोषी अक्षय की दया याचिका खारिज कर चुके हैं। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक अब दोषी अक्षय ने नई दया याचिका लगाई है, जिसमें उसने दावा किया कि पहले दायर की गई दया याचिका में सभी तथ्य नहीं थे।

इसके अलावा शुक्रवार को नि’र्भया के दो’षी पवन कुमार ने फां’सी से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की। उसने अपनी क्यूरेटिव पिटीशन में मौ’त की सजा को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की। इस पिटीशन पर कोर्ट के 5 जजों की पीठ सोमवार को सुनवाई करेगी। इस पीठ में जस्टिस रमन्ना के अलावा जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस नरीमन, जस्टिस भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण शामिल हैं।

आपको बता दें कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में चलती बस में निर्भ’या के साथ गैंगरे’प किया गया था। साथ ही उसकी जमकर पिटा’ई की गई थी। निर्भ’या की इलाज के दौरान मौ’त हो गई थी। इस मामले में दिल्ली की निचली अदालत ने मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) को दो’षी ठहराया था और फां’सी की सजा सुनाई थी। इसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने इन चारों की फां’सी की पु’ष्टि कर दी थी। इसके बाद दो’षियों ने सुप्रीम कोर्ट में अपील लगाई थी। शीर्ष कोर्ट ने भी सभी दो’षियों की फां’सी की सजा को बरकरार रखा था।