मोदी सरकार पर भड़के संजय राउत, बोले “बहुमत अहंकार से नहीं…”

0
112

बीते 2 महीने से भी ज़्यादा समय से दिल्ली की सीमाओं पर केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन चल रहा है। इस बीच अब इस आंदोलन लेकर बहुत सी खबरें सामने आ रही है। हाल ही में 26 जनवरी पर हुई हिंसा के बाद सरकार ने सभी बॉर्डर्स पर भारी संख्या में पुलिस तैनात कर दी है। ऐसे में अब शिव सेना के दावा है कि दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर तीन कृषि कानूनों (Farm laws) के खिलाफ चल रहा आंदोलन सिर्फ पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों का नहीं, बल्कि पूरे देश का आंदोलन है।

राज्य सभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान शिवसेना के सांसद संजय राउत ने बीजेपी पर निशाना साधा और साथ ही सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार किसानों के आंदोलन को बदनाम करना चाहती है। उन्होंने कहा कि “निंदा करने वालों को आप बदनाम कर देते हैं। जैसे किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश चल रही है। यह देश की प्रतिष्ठा के लिए ठीक नहीं है, यह देश के किसानों के लिए और हम सब के लिए ठीक नहीं है।” मोदी सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि “मोदी जी को प्रचंड बहुमत मिला है और हम इसका सम्मान करते हैं। बहुमत देश चलाने के लिए होता है। बहुमत अहंकार से नहीं चलता।”

किसानों की बात करते हुए संजय राउत ने कहा कि “लाल किले का अपमान करने वाला दीप सिद्धू कौन है? किसका आदमी है? इस बारे में क्यों नहीं बताया जाता? किसने उसे ताकत दी? अब तक वह पकड़ा नहीं गया लेकिन 200 से ज्यादा किसान इस प्रकरण में बंद हैं और उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दायर कर दिया गया है। 100 से ज्यादा युवा लापता हैं, क्या पुलिस ने इनका एनकाउंटर कर दिया? कुछ पता नहीं चल रहा है? क्या ये सभी देशद्रोही हैं?” उन्होंने कहा कि “पिछले दो महीने से ज्यादा समय से दिल्ली के बॉर्डर पर किसान जमे हैं, उनकी बात आप नहीं सुनते, उन्हें गद्दार कहते हैं। जो कील, लोहे की दीवार, यहां बॉर्डर पर लगा रहे हैं, यदि वह लद्दाख में चीन के बॉर्डर पर लगाते तो चीन इतनी सीमा के अंदर नहीं घुस पाता।”