मध्य प्रदेश के सियासी ड्रा’मे ने फिर लिया नया मो’ड़, कांग्रेस के इन मंत्रियों ने दिया इस्ती’फा..

0
894

मध्य प्रदेश में सियासी ड्रामे ने नया मो’ड़ ले लिया है। कमलनाथ सरकार के 28 में से 20 मंत्रियों ने अपना इस्तीफा दे दिया है। कहा जा रहा है कि इन सभी मंत्रियों ने मंत्रिमंडल के विस्तार की योजना के तहत इस्तीफा दे दिया है। जिसकी वजह से ना’राज विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। सोमवा’र को मुख्यमंत्री के घर पर हुई मंत्रिमंडल की बैठक हुई। इस बैठक में मंत्रियों ने अपने सामूहिक त्या’गपत्र मुख्यमंत्री को सौंपें। नेताओं को सीएम से मंत्रिमंडल का पुनर्ग’ठन करने का विनती की। सोमवा’र को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सियासी सं’कट के दौरान यह कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। बताया जा रहा है कि मध्य प्रदेश के आठ मंत्री अभी बेंगलुरू में हैं। ये विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप के बताए जा रहे हैं।

खबरों के अनुसार मंगलवा’र को शाम के समय कांग्रेस के विधायक दल की बैठक होने वाली है। कांग्रेस के नेता उमंग श्रृं’गार ने कहा कि “सभी 20 मंत्री जो यहां थे, उन्होंने अपना इस्तीफा दे दिया है। अब मुख्यमंत्री राज्य मंत्रिमंडल का पुनर्गठन कर सकते हैं। हम सब एक साथ हैं। सिंधिया भी कांग्रेस के साथ है।” कांग्रेस के नेता पीसी शर्मा ने दावा किया है कि सरकार बची हुई है और पूरे 5 साल चलेगी। उन्होंने कहा कि “बैठक में मौजूद सभी मंत्रियों ने अपना इस्तीफा सीएम कमलनाथ को सौंप दिया है। हमने उनसे राज्य मंत्रिमंडल का पुनर्गठन करने का अनुरो’ध किया और बीजेपी की ओर से बनाई परिस्थितियों से निपटने के लिए कहा है… सरकार बची हुई है, पूरे पांच साल चलेगी। इस पूरे राजनीतिक ड्रामे के बीच कांग्रेस के वरि’ष्ठ नेता राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर दस जनपथ पहुंचे हैं।”

इस बीच, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बयान में कहा कि “मैं उन ताकतों को कामयाब नहीं होने दूंगा जो माफियाओं की मदद से अस्थिरता फैला रहे हैं। मेरी सबसे बड़ी ताकत मध्य प्रदेश की जनता का प्यार और भरोसा है। मैं उन ताकतों को सफल नहीं होने दूंगा जो सरकार में अस्थिरता पैदा कर रही हैं। ऐसी सरकार जिसे मध्य प्रदेश की जनता ने बनाया है।”