BJP के बड़े प्रस्ताव पर सौरभ गांगुली का है ये जवाब, नहीं करना चाहते..

0
179

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और बेहतरीन खिलाड़ी सौरव गांगुली एक अच्छे क्रिकेटर होने के साथ साथ बीजेपी के लिए भी एक एहम किरदार रखते हैं। जिसके चलते बीजेपी साल 2021 में पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) में पूर्व भारतीय क्रिकेटर और मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को अपना सीएम कैंडिडेट बना सकती है। गौरतलब है कि होने वाले इन चुनावों में इस बार बीजेपी को सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC) से कड़ी टक्कर मिलने वाली है।

मिली जानकारी के मुताबिक फिलहाल गांगुली चुनाव लड़ने के मूड में नहीं हैं। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक बताया जा रहा है कि “दादा ने बीजेपी नेतृत्व को बता दिया है कि वह ना तो राजनीति में उतरना चाहते हैं और ना ही विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करेंगे।” हालाकि अभी तक गांगुली की ओर से कोई भी बयान जारी नहीं किया गया है। वहीं रिपोर्ट के अनुसार पिछले महीने गांगुली ने बीजेपी के सामने साफ कर दिया था कि वह अब पॉलिटिक्स ने शामिल नहीं होना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वह अपने मौजूदा पद (बीसीसीआई चीफ) से ही बहुत खुश हैं।

वहीं सूत्रों ने बताया कि उनके इस फैसले के बाद बीजेपी ने भी उनके ऊपर कोई ज़ोर ज़बरदस्ती नहीं की। अखबार ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि “भारतीय जनता पार्टी हमेशा चाहती थी कि सौरव गांगुली एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं, लेकिन वह कई दूसरी भूमिकाओं में व्यस्त रहे हैं… आज स्थिति अलग है, क्योंकि बंगाल में हम बड़ी राजनीतिक ताकत बन चुके हैं।” रिपोर्ट्स में ये भी बताया गया कि सौरव गांगुली और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच काफी अच्छे राजनीतिक संबंध हैं और गांगुली के क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल का अध्यक्ष बनने में ममता बनर्जी का भी हाथ था। हालाकि उनको बीसीसीआई अध्यक्ष बनाने में गृहमंत्री अमित शाह ने अहम भूमिका निभाई थी।