भारत-चीन के विवाद पर पीएम मोदी की हाई-अलर्ट मीटिंग,NSA डोभाल,CDS…,

0
285

लद्दाख में भारत और चीन के बीच त’नाव लगातार अभी भी जारी हैं और बढ़ता जा रहा। ऐसे में पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और तीनो सेना प्रमुखों के साथ हाई-अलर्ट मीटिंग की हैं।

सूत्रों से मिली जा’नकारी के मुताबिक सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात कर हालात की जा’नकारी ली थी। बैठकों का ये दौर ऐसे वक़्त में चल रहा है जब सिक्किम और लद्दाख में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच तनाव की ख़बरें आ रही हैं।वहीं,सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि बीजिंग लद्दाख के पास एक एयरबेस का विस्तार कर रहा है और तो और तस्वीरों से यह भी साफ़ होता है कि चीन ने वहां लड़ाकू विमान भी तैनात किए हैं।वहीं अभी एक दिन पहले ही चीन ने अपने दूतावास की वेबसाइट पर एक नोटिस में अपने उन नागरिकों को वापस भेजने की पेशकश की, जो अपने घर लौटना चाहते थे।

आपकों बता दें कि,पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास कई क्षेत्रों में भारत और चीनी सैनिकों के बीच तनातनी की स्थिति है।जाहिर है कि,गौरतलब है कि भारत ने पैंगोंग त्सो और गलवान घाटी में जबसे अपनी स्थिति मजबूत की है,तब से चीन चिढ़ा हुआ है।इसके बाद चीन ने इन दोनों विवादित क्षेत्रों में अपने दो से ढाई हजार सैनिकों की तैनाती कर दी है। इसके बाद वह अब अ’स्थायी निर्माण को मजबूत कर रहा है।ज्ञात हो कि,5 मई से चल रहे इस विवाद के बाद अब तक दोनों देशों के सैनिकों के बीच 6 बार मीटिंग हो चुकी है, लेकिन ये बातचीत विफल रही है।अंदेशा हैं कि,यह त’नाव 2017 के डोकलाम गतिरो’ध के बाद यह सबसे बड़े सैन्य ट’कराव का रूप ले सकता है।