West Bengal की यह महिला बनी लोगों के लिए मिसाल, 52 साल की उम्र में किया ऐसा काम

0
297

पढ़ाई करने की कोई उम्र नही होती ऐसा आपने बहुत लोगों से कहते सुना होगा। खड़दह की रहड़ा रामकृष्ण पल्ली की रहने वाली प्रतिमा गंगोपाध्याय देवी जिसकी उम्र 52 साल है। उन्होंने उच्च माध्यमिक (12वीं) परीक्षा के एग्जाम दिए और पास हुई। प्रतिमा गंगोपाध्याय देवी शादी के बाद भी पढ़ाई को जारी रखना चाहती थीं। लेकिन अपने दो बच्चों की परवरिश करने की ज़िम्मेदारी के कारण वियस्थ होने की वजह से वो पढ़ाई नही कर पाई। इस बात को लेकर उनके मन में हमेशा से अफसोस रहा और वो इस बात का ज़िक्र अपने बड़े बेटे आयन से अक्सर करती थीं।

प्रतिमा गंगोपाध्याय देवी का बड़ा बेटा आयन पेशे से अधिवक्ता हैं और बैरकपुर बार एसोसिएशन के सदस्य भी है। उनके बेटे ने इस बात को अच्छी तरह से समझ लिया था कि उसकी माँ आगे पढ़ना चाहती हैं और उसने इस बात को थान लिया कि वो अपनी माँ को आगे पढ़ाएगा। बेटे के कहने पर प्रतिभा देवी ने अपनी पढ़ाई फिर से शुरू कर दी। उन्होंने खड़दह के बांदीपुर आइडियल एकेडमी ऑफ गर्ल्स स्कूल से 251 अंकों के साथ 12वीं की परीक्षा पास की है।


प्रतिमा देवी के 12वीं क्लास को पास करने पर उनका पूरा परिवार खुश है। प्रतिमा देवी घर के सारे काम को पूरा करने के बाद स्कूल पढ़ाई करने जाया करती थीं। और स्कूल से वापस आने के बाद फिर घर के काम काज में मसरूफ़ हो जाती थीं। 12वीं पास करने के बाद प्रतिमा देवी रुकना नही चाहती। वह आगे ग्रेजुएशन और उसके बाद एमए की पढ़ाई करना चाहती हैं। प्रतिमा देवी के पति अरविंद गंगोपाध्याय एक निजी कंपनी में काम करते हैं।