क्या 2024 में राहुल गांधी होंगे विपक्ष के PM उम्मीदवार?

0
83

2024 में लोकसभा चुनाव होना है। भाजपा काफी पहले ही अपनी तैयारी शुरू कर चुकी है। राष्ट्रीय स्तर से लेकर जिला और मंडल स्तर पर रणनीति का असर दिखने लगा है। वहीं, दूसरी ओर विपक्ष भी चुनाव की तैयारियों में जुटा है। कांग्रेस का एजेंडा साफ है कि वो चुनाव में लीड करेगी। लेकिन, अन्य विपक्षी दल फिलहाल इस बाद पर एकमत नजर नहीं आ रहे हैं। लेकिन, राहुल गांधी को लेकर विपक्ष के कुछ दलों के लीडर इशारों में यह कहते हुए जरूर नजर आ रहे हैं कि राहुल पीएम बनने सकते हैं।

कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों के गठबंधन की आवाज अब मुखर हो रही है। महाराष्ट्र के पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष की वकालत की है। साथ ही दोनों नेताओं ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की जमकर तारीफ भी की है। शिवसेना और एनसीपी द्वारा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष की प्रशंसा के बाद उनकी पीएम के तौर पर उम्मीदवारी और मजबूत दिख रही है।

शरद पवार ने आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के नेतृत्व को स्वीकार किया है। शरद पवार ने बुधवार को पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि एनसीपी आगामी लोकसभा चुनाव में किसी भी कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष का साथ देगी। उन्होंने कहा, “कांग्रेस बड़ी पार्टी है, उन्हें नेतृत्व करने दीजिए। हम कांग्रेस के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं।“

शरद पवार ने राहुल गांधी की खुलकर तारीफ भी की है। शरद ने राहुल गांधी द्वारा भारत जोड़ो यात्रा निकालने और चीन सीमा विवाद पर अपनी बात रखने को लेकर उनकी प्रशंसा की है। शरद पवार ने कहा, “कुछ दिन पहले एक युवक कन्याकुमारी से पैदल चलकर कश्मीर आया। देश की सत्ता पर काबिज लोगों ने उनकी तारीफ नहीं की। वह आदमी सिर्फ ये देखना चाहता था कि देश में कोई कमी तो नहीं, लेकिन मजाक उड़ाया गया। फिर भी वो चलते रहे और लोगों से मिलते रहे।

इससे पहले, उद्धव ठाकरे ने सामना में एक लेख के जरिए राहुल गांधी की तारीफ की। उद्धव ने कहा था कि राहुल गांधी का नेतृत्व ‘भारत जोड़ो’ यात्रा से मजबूत और परिपक्व हुआ है। उन्होंने पूरे देश में पैदल चलकर और उसके बाद संसद सत्र में हिंडनबर्ग व मोदी-अदाणी दोस्ती मामले पर जोरदार हमला बोलकर मोदी का वस्त्र हरण किया। राहुल के सवालों का मोदी जवाब नहीं दे पाए।

उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार के एक बयान का हवाला देते हुए कहा कि कांग्रेस के बिना विपक्षी एकता संभव नहीं है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि आगामी चुनाव को लेकर चर्चा होनी जरूरी है। इसके लिए कांग्रेस के पहल करने में कोई दिक्कत नहीं है।

वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने नगालैंड में एक रैली के दौरान बड़ा दावा किया। खरगे ने कहा कि अगले लोकसभा चुनाव में गठबंधन सरकार केंद्र में आएगी और कांग्रेस इसका नेतृत्व करेगी। हालांकि, नितीश कुमार अलग ही राग अलाप रहे हैं। वो विपक्षी गठबंधन में खुद को सबसे आगे देखते हैं। वहीं, समाजवादी पार्टी और आम आदमी पार्टी दक्षिण के साथ गठबंधन करने की ओर आगे बढ़ रहे हैं। अब देखना होगा कि चुनाव नजदीक आते-आते क्या नजारे नजर आते हैं।