उद्योग’पति रतन टाटा ने बु’रे व’क़्त में कि भारत की इस तरह म’दद..

0
545

दुनियाभर में कोरोना वाय’रस का खौ’फ बढ़ता ही जा रहा है। आए दिन इस वाय’रस से संक्रमित लोगों की खबरें आती रहती हैं। दुनिया के कई देशों के साथ भारत में भी कोरोना वाय’रस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। भारत में कोरोना वाय’रस से संक्रमित लोगों के मामले 918 को पार कर चुके हैं वहीं 19 लोगों की मौ’त भी हो चुकी है। तेज़ी से बढ़ते मामलों के कार’ण देश में इलाज के लिए वेंटिलेटर, मास्क से लेकर सैनिटाइजर तक की जरूरत है। भारत के बुरे वक़्त में कई तरफ से मदद मिलना भी शुरु हो गई हैं। बॉलीवुड के कई अभिनेताओं के साथ साथ क्रिकेट जगत के सितारे और भारत के बड़े बड़े उद्योगपति इसमें शामिल हैं। हाल ही में भारत के उद्योगपति टाटा संस के मानद चेयरमैन रतन टाटा
ने भी इसे बु’रे वक़्त में मदद के हाथ बढ़ाए हैं।

रतन टाटा ने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट कर के लिखा कि “इस दौड़ में COVID 19 संकट सबसे कठिन चुनौतियों में से एक है। टाटा समूह की कंपनियां हमेशा ऐसे समय में देश की जरूरत के साथ खड़ी हुई है। इस समय देश को हमारी जरूरत अधिक है।” बता दें कि टाटा ट्रस्ट्स की अोर से 500 करोड़ रुपये की मदद का ऐलान हुआ है वहीं टाटा संस ने भी 1000 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। जिसे मिला कर टाटा समूह की तरफ से इस जानलेवा वाय’रस से लड़ने के लिए कुल धनराशि 1500 करोड़ रुपए का योगदान है।

बता दें कि केवल भारत के लोग ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे ताकतव’र देश अमेरिका भी भारत के बुरे वक़्त में मदद का हाथ बढ़ाया है। शुक्रवा’र को अमरीका ने कोरोना वाय’रस से लड़ने के लिए 64 देशों को 17.4 करोड़ डॉलर की अतिरिक्त आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया था। इस 64 देशों में भारत का नाम भी शामिल है। कहा जा रहा है कि इस धनराशि में से 29 लाख डॉलर मदद के तौर पर भारत को दिए जा सकते हैं। इससे पहले फरवरी में भी अमेरिका ने 10 करोड़ डॉलर की मदद की थी। बता दें कि फिलहाल यह नयी राशि रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) समेत विभिन्न विभागों एवं एजेंसियों के विशाल अमेरिकी वैश्विक प्रतिक्रिया पैकेज का हिस्सा है। जोकि दुनिया के 64 देशों के लिए है।