ममता के बाद अब अखिलेश ने भी बनाई कांग्रेस से दूरी, बोले “नहीं मिलेगी एक भी सीट…”

0
87

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के करीब आते ही सभी दलों में सियासी हलचल तेज हो गई है। सभी इस दौरान चुनाव की तैयारी में जुटे हुए हैं। इस दौरान कोई भी दल एक दूसरे को निशाना बनाने से नहीं चूक रहा है। ऐसे में एक बड़ी खबर सामने आई है। पता चला है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तृणमूल कांग्रेस के साथ हाथ मिला सकते हैं। शुक्रवार को दिए एक बयान में अखिलेश यादव ने कहा कि बंगाल की तरह यूपी में भी भाजपा का सफाया होगा। बता दें कि इस समय अखिलेश यादव बुंदेलखंड की चुनावी यात्रा पर हैं।

बयान देते हुए उन्होंने कहा कि “मैं उनका स्वागत करता हूं। जिस तरह से उन्होंने बंगाल में भाजपा का सफाया किया… उत्तर प्रदेश के लोग भी उसी तरह भाजपा का सफाया कर देंगे।” इस बीच उनसे ममता के वैकल्पिक मोर्चे के बारे में सवाल पूछा गया। जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि “जब सही समय आएगा तब हम इसके बारे में बात करेंगे।” इस दौरान अखिलेश यादव ने कांग्रेस पार्टी को भी निशाना बनाया। उन्होंने प्रियंका गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि “जनता उन्हें वोट नहीं देगी और आगामी चुनावों में उन्हें 0 सीटें मिलेंगी।”

बता दें कि इससे पहले मुरादाबाद में एक रैली के दौरान प्रियंका गांधी ने भी अखिलेश यादव पर हमला बोला था। प्रियंका ने लखीमपुर खीरी हिंसा को मुद्दा बनाते हुए अखिलेश पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि “जब लखीमपुर खीरी में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे ने किसानों को अपनी गाड़ी के नीचे रौंदा तो यादव कहां गायब थे।” गौरतलब हैं कि यादव ने बुंदेलखंड के झांसी में संवाददाताओं के सामने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा। उन्होंने पीएम पर आरोप लगाया कि पीएम उनकी पार्टी द्वारा शुरू की गई परियोजनाओं का श्रेय ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि “अगर समाजवादी पार्टी 22 महीने में एक्सप्रेसवे बना सकती है तो बीजेपी को उसी काम को करने में 4.5 साल क्यों लगे? ऐसा इसलिए है क्योंकि वे यूपी में लोगों के कल्याण के लिए काम नहीं करना चाहते हैं।”