हिमाचल की सबसे चर्चित विधानसभा सीट, जहाँ हारे जीते कोई भी जीतेगा बस एक गाँव

0
16

चुनावी माहौल आते ही लोगों के बीच एक अलग ही दंगल मच जाती है। आज हम हिमाचल विधानसभा चुनाव से जुड़ी एक दिलचस्प बात आपको बताने वाले है। यहाँ भाजपा अपनी सरकार क़ायम रखना चाहती हैं जबकि कांग्रेस भी इस बार मैदान में पूरे जोश से उतरने को तैयार है। जहाँ ये दो मुख्य पार्टियाँ अपना काम कर रही हैं। वहीं आप भी इस विधानसभा क्षेत्र में अपना हाथ आज़माने को तैयार है। 12 तारीख़ को यहाँ मतदान है और जनता को लुभाने की पूरी तैयारियाँ चल रही हैं।

वैसे तो पूरा चुनावी माहौल ही अपने आप में दिलचस्पी भरा होता है लेकिन यहाँ कि भरमौर विधानसभा सीट ने सभी का ध्यान अपनी ओर कर लिया है। इसका कारण है कि यहाँ कोई भी जीते, जीत होगी गाँव सचुई की क्योंकि तीनों ही पार्टियों ने अपने प्रत्याशी इस गाँव से चुनें हैं। एक ओर भाजपा ने डॉक्टर जनकराज को टिकट दिया है जो कि मशहूर न्युरोसर्जन हैं। जबकि कांग्रेस ने ठाकुर सिंह भरमौरी को अपना प्रत्याशी बनाया है, जो पहले वनमंत्री का पद भी सम्भाल चुके हैं।

आम आदमी पार्टी ने यहाँ अपने प्रत्याशी के रूप में प्रकाशचंद भारद्वाज को खड़ा किया है, जो कि प्रिंसिपल रह चुके हैं। एक आश्चर्य की बात तो ये भी है कि भाजपा आर कांग्रेस के विधायक आपस में रिश्तेदारी भी रखते हैं। दोनों एक ही परिवार के हैं।भाजपा प्रत्याशी डॉक्टर जनकराज इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज में मेडिकल सुपरिटेंडेंट के पद पर रह चुके हैं। चुनाव के लिए उन्होंने ये पद छोड़ा है। अब सभी को ये इंतज़ार है कि आख़िर सचुई गाँव तक जीत किसके काँधे पर आती है।

आपको ये बताते चलें कि हिमाचल की 68 विधानसभा सीटों के लिए कुल 786 उम्मीदवार ने पर्चा भरा था। मगर 589 प्रत्याशियों का पर्चा स्वीकृत हुआ, जबकि 84 के पर्चे रिजेक्ट हो गए। वहीं 113 ने उम्मीदवारों ने नाम वापस ले लिया था। इस बार एक चरण में वोटिंग होगी। चुनाव प्रचार अभियान 10 नवंबर को शाम पांच बजे खत्म हो जाएगा। इसके बाद मतदान 12 नवंबर को है, जबकि मतगणना 8 दिसंबर को होगी। इसमें भाजपा और कांग्रेस के साथ-साथ इस बार आम आदमी पार्टी ने भी सभी 68 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए हैं।