कड़ी सुरक्षा के बीच श्रीनगर में आज से G-20 की बैठक

0
199

श्रीनगर: पुख़्ता सुरक्षा के बीच कश्मीर में जी 20 टूरिज्म ग्रुप की बैठक आज से शुरू हो रही है. भारत ने बैठक से पहले अपना रुख साफ करते हुए कहा है कि यहां आकर लोग देखेंगे कि धरती पर स्वर्ग कैसा होता है. बता दें कि आतंकी साजिश के अलर्ट के बाद सुरक्षा के बेहद कड़े इंतज़ाम किए गए हैं. श्रीनगर में हो रही बैठक में 60 से ज़्यादा प्रतिनिधि हिस्सा ले सकते हैं. G-20 की टूरिज़्म डेलिगेट्स वर्किंग ग्रुप की बैठक में पूरे क्षेत्र के सतत विकास को लेकर विस्तार से चर्चा होगी.

श्रीनगर शहर के कुछ हिस्सों और शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर या SKICC की ओर जाने वाली सड़कों को शानदार रूप दिया गया है, जहां G-20 बैठक होनी है. G-20 के चीफ कॉर्डिनेटर हर्षवर्धन शिंगा ने कहा कि भारत अपनी जी20 अध्यक्षता के आधे रास्ते पर है. अब तक देश भर में 118 बैठकें हो चुकी हैं. उन्होंने कहा कि पर्यटन पर पहले की दो बैठकों की तुलना में श्रीनगर बैठक में सबसे अधिक प्रतिभागी आए हैं.

बैठक में G-20 के सदस्य देशों के लगभग 60 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं. अधिकारियों का कहना है कि श्रीनगर कार्यक्रम के लिए सबसे अधिक प्रतिनिधि सिंगापुर से आ रहे हैं. विशेष आमंत्रित अतिथि देशों के प्रतिनिधि भी बैठक में भाग ले रहे हैं. चीन ने कश्मीर में G-20 बैठक आयोजित करने का विरोध किया है, जबकि सऊदी अरब ने इस आयोजन के लिए पंजीकरण नहीं कराया है. ऐसा लगता है कि तुर्की ने श्रीनगर बैठक से दूर रहने का फैसला किया है.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने शुक्रवार को कहा, “चीन विवादित क्षेत्रों में किसी भी रूप में जी20 बैठक आयोजित करने का दृढ़ता से विरोध करता है और ऐसी बैठकों में शामिल नहीं होगा. भारत ने यह कहते हुए आपत्ति का पलटवार किया कि वो अपने क्षेत्र में बैठकें करने के लिए स्वतंत्र है. इसने कहा कि चीन के साथ सामान्य संबंधों के लिए उसकी सीमा पर अमन-चैन जरूरी है. श्रीनगर में जी20 कार्यक्रम में चीन की ओर से इस तरह का यह पहला कड़ा बयान था.

बैठक से पहले श्रीनगर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. मरीन कमांडो और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्डों को जमीन से हवा में सुरक्षा कवर के हिस्से के रूप में तैनात किया गया है. ड्रोन रोधी इकाइयों को सक्रिय कर दिया गया है और संवेदनशील स्थानों और प्रतिष्ठानों पर राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड तैनात किए गए हैं.

सेना, BSF, CRPF, BSF और जम्मू-कश्मीर पुलिस के हजारों जवान इन खबरों के बीच सुरक्षा ग्रिड का हिस्सा हैं कि आतंकवादी कश्मीर में जी20 कार्यक्रम को बाधित करने की कोशिश कर सकते हैं. पुलिस ने ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की है और श्रीनगर के बुलेवार्ड रोड पर किसी भी ट्रैफिक को चलने की अनुमति नहीं दी जाएगी. G-20 प्रतिनिधियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले मार्ग पर यातायात की आवाजाही पर भी प्रतिबंध है. लाल चौक क्षेत्र के दुकानदारों को विशेष पास जारी किए गए हैं ताकि वे बिना किसी परेशानी के अपनी दुकानें खोल सकें.