बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले से बढ़ी देशमुख की मुसीबत, 15 दिनों के भीतर ही होगी…

0
35

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद महाराष्ट्र सरकार पर काफी सवाल उठाए गए। इस दौरान राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर कई गंभीर आरोप लगाए गए। जिसके चलते विपक्ष ने उसके इस्तीफे के मांग की। खबर मिली है कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने गृह मंत्री के खिलाफ दायर की गई तीन याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए देशमुख बड़ा झटका दिया है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने इस मामले की जांच का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि इस मामले की जांच CBI करेगी।

कोर्ट ने कहा कि “महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की 15 दिनों के भीतर प्रारंभिक जांच शुरू होनी चाहिए। क्‍योंकि अनिल देशमुख गृहमंत्री हैं इसलिए पुलिस इस मामले में निष्‍पक्ष जांच नहीं कर पाएगी। ऐसे में इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जाती है।” बता दें कि परमबीर सिंह द्वारा अनिल देशमुख पर लगाए गए आरोपों के बाद हाई कोर्ट में तीन याचिका दायर हुई। जिसमें इस मामले की जांच की मांग की गई थी।

इनमें एक याचिका खुद सिंह ने जबकि दूसरी याचिका शहर की वकील जयश्री पाटिल और तीसरी एक शिक्षक मोहन भिडे ने दायर की थी। इन तीनों ही याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सीबीआई जांच का आदेश दिया। बता दें कि मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर ने देशमुख पर आरोप लगाया था कि उन्होंने सचिन वाझे को 100 करोड़ रुपये का टारगेट दिया था। टारगेट को पूरा करने के लिए उन्होंने मुंबई के बार, पब और रेस्टोरेंट से वसूली करने को कहा।