बढ़ते कोरोना मरीजों के कारण पुणे में बढ़ी सख्ती, 14 मार्च तक अब…

0
75

बढ़ती कोरोनावायरस की महामारी के बीच अब महाराष्ट्र में कड़े नियाम लागू किए जा रहे हैं। इन नियमों के चलते अब राज्य में देर रात तक बेवजह बाहर घूमने पर सख्त कार्रवाई हो सकती है। गौरतलब हैं कि देश में महाराष्ट्र ऐसा राज्य है जहां कोरोनावायरस के मामले सबसे ज़्यादा हैं। इसके अलावा इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर केरल है और तीसरे पर कर्नाटक है। बता दें कि कोरोनावायरस के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए अब महारष्ट्र सरकार ने पुणे के सभी स्कूल और कॉलेजों को भी 14 मार्च तक बंद रखने का फैसला लिया है। साथ ही पुणे में मौजूद सभी कोचिंग क्लासेस भी 14 मार्च तक बंद रहेंगी।

पुणे में रात में लोगों के आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है। बता दें कि पुणे में 24 फरवरी के बाद से ही रोज़ाना करीब 1,000 कोरोनावायरस के नए मामले आ रहे हैं। जिसके देख अब सरकार ने बहुत से ज़रूरी फैसले सुनाए हैं। सरकार के आदेश के तहत शहर में रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लोगों की आवाजाही पर रोक रहेगी। पुणे में कोरोनावायरस से सक्रमित लोगों की संख्या अब 4,06,057 हो चुकी है। इसके चलते अब पूरे राज्य में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की तादाद बढ़कर 2 मिलियन से भी ज़्यादा पहुंच चुकी है।

बता दें कि इस वायरस के कारण अब तक महाराष्ट्र में 52,092 मरीज़ अपनी जान गवां बैठे। बढ़ते संकट को देख पुणे के मेयर मुरलीधर मोहाल ने कहा कि “पिछले कई दिनों से शहर में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि देखी गई है। कोरोना पर काबू पाने के लिए 28 मार्च तक नियम लागू किए गए थे, जिसे अब बढ़ाकर 14 मार्च किया गया है।”