अब सेना में होगी एक सम्पूर्ण महिला बटालियन: पर्रिकर

0
115

नई दिल्ली. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) के युद्धपोतों में एक महिला बटालियन बनाने का विचार किया है। सोमवार को इस मुद्दे पर बातचीत करते हुए पर्रिकर ने इंडियन आर्मी में सम्पूर्ण महिला बटालियन होने का विचार रखा। उन्होंने कहा कि तीन महिला पायलट ने आइएएफ में शामिल होकर महिला विरोधी धारणाओं को तोड़ कर रख दिया है।
टाइम ऑफ़ इंडिया के मुताबिक, फिक्की महिला संगठन के साथ बात करते हुए पर्रिकर ने बताया कि लोग ऐसा मानते हैं कि कोई सैनिक महिला अधिकारी के कमांड को नहीं सुनेगा। लेकिन मैं इस बात से असहमत हूं। शुरुआती दौर में अगर इस तरह की परेशानी आती है तो महिला बटालियन खुद इसका ख्याल रखेगीं।
गौरतलब है कि रक्षा मंत्री ने बताया कि सेना में महिलाओं की भर्ती को आसान बनाया जाएगा। हम देश की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द ही तीनों सेना प्रमुखों से इस बारे में बात होगी। बुनियादी सुविधाओं में कमी ही महिलाओं के प्रशिक्षण में एक बड़ी बाधा बनी हुई है।
आपको बता दें कि यह बिल्कुल वैसा ही है जैसा बीते समय में जब अमेरिका ने अपनी सेना पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया था जबकि सेना में किन्नर भी शामिल होने पर लगे थे।
जानकारी के मुताबिक पर्रिकर के सम्पूर्ण महिला बटालियन के विचार से भर्ती और नियमों में बड़े बदलाव की जरुरत होगी, क्योंकि 1990 के दशक से सशस्त्र सेना बल महिलाओं को सिर्फ अधिकारी पद पर ही शामिल करता रहा है। इससे केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में अन्य रैंकों के साथ महिला बटालियन का होना आसान हो जाएगा।
रक्षा मंत्री का कहना है कि महिलाओं का वॉरशिप में होना एक प्रेरणादायक है। उन्होंने कहा कि मुझे समझ नहीं आता कि क्यों हम महिलाओं को वॉरशिप में नहीं देख सकते हैं। मैं महिलाओं को पनडुब्बियों को चलाने का समर्थन नहीं करूंगा। अब तो सैनिक स्कूलों में भी महिला स्टूडेंट की मांग है। लेकिन बारहवीं के बाद एनडीए में शामिल हुए बिना इसकी अनुमति नहीं दी जाती है।
बता दें कि इस समय 13 लाख सशस्त्र बलों में महिला अधिकारियों की कुल संख्या 60,000 है। जिसमे 1,436 महिला अधिकारी आर्मी में, 1,331 भारतीय वायुसेना में और 532 नौसेना में हैं।