क्या महंगी होंगी डीजल गाड़ियां? इसलिए हो रही चर्चा

0
80

डीजल से चलने वाले वाहन मंहगे हो सकते है. ऐसे में उन लोगों को झटका लग सकता है, जो डीजल वाहन खरीदने का प्लान बना ररह हैं. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी देश में डीजल की गाड़ियों पर लगाम लगाने की तैयारी कर रहे हैं. यह फैसला वायु प्रदूषण को कम करने के लिए लिया जा सकता है. नितिन गडकरी ने डीजल से चलने वाले इंजनों पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त जीएसटी लगाने का प्रस्ताव रखा है.

नितिन गडकरी ये बात सियाम (सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स) के एक कार्यक्रम में कही. हालांकि बाद में उन्होंने इसे लेकर ‘एक्स’ पर पोस्ट करते हुए साफ किया कि सरकार हाल-फिलहाल में इस तरह के किसी प्रस्ताव पर विचार नहीं कर रही है.

गडकरी का कहना है कि ऑटो इंडस्ट्री को इस बारे में खुद से एक्शन लेना चाहिए. डीजल गाड़ियों को ‘बाय-बाय’ कह देना चाहिए. नहीं तो सरकार उन पर इतना टैक्स बढ़ा देगी कि कंपनियों के लिए उन्हें बेचना मुश्किल हो जाएगा.

2014 से अब तक देश में डीजल कारों की संख्या गिरी है. नौ साल पहले ये कुल कारों का करीब 33.5 प्रतिशत थीं, जो अब घटकर 28 प्रतिशत रह गई हैं. गडकरी ने इस बात पर भी जोर दिया कि सरकार के इस कदम का मकसद ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री को डीजल से हटाकर साफ और स्वच्छ ईंधन विकल्प पर तेजी से मोड़ना है.

बाद में नितिन गडकरी ने एक्स पर लिखे पोस्ट में कहा कि सरकार 2070 तक ‘कार्बन नेट जीरो’ का लक्ष्य रखा है.साथ ही वायु प्रदूषण के स्तर में कमी लाने का लक्ष्य तय किया है, क्योंकि डीजल जैसे खतरनाक ईंधन बड़ी मात्रा में पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं. उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि ज्यादा पर्यावरण हितैषी ईंधन विकल्पों को अपनाने पर जोर दिया जाए.