वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए मेडिकल स्टाफ और फ्रंटलाइन वर्कर्स से जुड़े पीएम मोदी, भावुक होकर कहा…

0
82

देश में तेज़ी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से हर कोई तंग आ गया है। देश का हर व्यक्ति बस ये ही चाहता है कि अब किसी तरह इस वायरस से निजात मिल सके। इस मुश्किल भरे दौर में देश के प्रधानमंत्री ने वायरस की रोकथाम के लिए अधिकारियों, जिलाधिकारियों, राज्य सरकारों और मेडिकल स्टाफ के साथ कई बैठकें की। लेकिन अभी तक इसको रोकना का कोई तरीका सामने नहीं आया है। आज फिर एक बार पीएम मोदी वाराणसी में मेडिकल स्टाफ, फ्रंटलाइन वर्कर्स से बातचीत करने के लिए सामने आए हैं। इस दौरान बात करते करते पीएम मोदी काफी भावुक हो गए।

इस वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि “देश ने कोरोना से मजबूत लड़ाई लड़ी लेकिन हमारे परिवार के कई लोगों को हम वापस नहीं ला पाए। इस वायरस ने हमारे कई अपनों को हमसे छीना है। मैं उन सभी लोगों को अपनी श्रद्धांजलि देता हू, उनके परिजनों के प्रति सांत्वना व्यक्त करता हूं।” पीएम ने आगे कहा कि “दूसरी लहर के दौरान प्रशासन ने जो तैयारियां की हैं, उन्हें केस घटने के बाद भी हमें ऐसे ही चुस्त दुरुस्त रखना ही है। साथ ही लगातार आंकड़ों और स्थितियों पर भी नजर रखनी है।”

इस दौरान उन्होंने ब्लैक फंगस के बारे में भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि “हमारी इस लड़ाई में अभी इन दिनों ब्लैक फंगस की एक और नई चुनौती भी सामने आई है। इससे निपटने के लिए जरूरी सावधानी और व्यवस्था पर ध्यान देना जरूरी है। कोविड के खिलाफ गांवों में चल रही लड़ाई में आशा और ANM बहनों की भी भूमिका बहुत अहम है। मैं चाहूंगा कि इनकी क्षमता और अनुभव का भी ज्यादा से ज्यादा लाभ लिया जाए।” इस दौरान वैक्सीन की बात करते हुए उन्हें कहा कि हमारे पर इस वायरस से बचने का सिर्फ एक ही रास्ता है और है वैक्सीन हम चाहते हैं जल्द जल्द पूरे देश को वैक्सिनेट किया जाए।