उत्तराखंड : बेरोजगारों पर बर्बरता के खिलाफ प्रदेशभर में जोरदार प्रदर्शन

0
81

देहरादून : बेरोजगारों पर लाठीचार्ज और पत्थरबाजी के विरोध में बेरोजगार संघ ने उत्तराखंड बंद का आह्वान किया था। बेरोजगार संघ को प्रदेशभर से पूरा सहयोग मिला। जहां राजधानी देहरादून में युवा फिर सड़कों पर उतरे वहीं, राज्यभर में युवाओं ने बंद को अपना सहयोग दिया। युवाओं पर लाठीचार्ज मामले में सरकार पूरी तरह से बैकफुट पर है। अपनी गलती छुपाने के लिए सरकार के मंत्री विपक्ष को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं, जबकि विपक्ष सरकार पर लाठी के दम पर आन्दोलन को कुचलने का आरोप लगा रहा है।

शहीद स्मारक पर प्रदर्शन

मामले में गिरफ्तार किए गए बेरोजगार संघ के अध्यक्ष सहित 13 की कोर्ट में पेशी होनी थी, जिसको लेकर कोर्ट के बाहर स्थिति तनावपूर्ण रही। इसी के विरोध में छात्र कचहरी स्थित शहीद स्मारक पर पहुंचे और प्रदर्शन करने लगे। छात्र बेरोजगार संघ के अध्यक्ष बॉबी पवार को रिहा करने की मांग कर रहे हैं। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे छात्रों को समर्थन देने के लिए विभिन्न संगठन भी पहुंचे।

DGP ने बैठक बुलाई

पुरे मामले को लेकर  DGP ने बैठक बुलाई है। लापरवाह अधिकारियों और कर्मचारियों पर गाज गिर सकती है। शहीद स्मारक पर सिटी मजिस्ट्रेट कुसुम चौहान और SDM सदर नरेश चंद्र दुर्गापाल भी पहुंचे। लाठीचार्ज के विरोध में कांग्रेसी DGP अशोक कुमार का पुतला फूंकने पहुंचे। जिन्‍हें पुलिस ने सेंट जोजेफस स्‍कूल के पास रोक लिया।

यहां भी सड़कों पर उतरे युवा 

उत्तरकाशी में बेरोजगार छात्रों ने धरना-प्रदर्शन किया। व्यापारियों के समर्थन से उत्तरकाशी बाजार बंद कराया गया। इस दौरान कुछ दुकानों को बंद कराने को लेकर छात्रों का जमकर हंगामा हुआ।  चमोली में भी युवाओं ने प्रदर्शन किया। पौड़ी में अन्य दिनों की तरह बाजार खुले रहे, हालांकि सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मी तैनात किए गए। बेरोजगार युवाओं पर पुलिस के लाठीचार्ज का अल्मोड़ा में भी विरोध शुरू हो गया है। इस दौरान युवाओं ने भर्ती घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की। भूख हड़ताल में बैठने की चेतावनी दी।

ऋषिकेश में भी धारा 144 लागू

युवाओं पर हुई करवाई का असर प्रदेशभर में देखने को मिल रहा है। ऋषिकेश में हाथों में गुलाब लेकर युवाओं ने मौन जुलूस निकाला। प्रदर्शन को देखते हुए ऋषिकेश में भी प्रशासन ने दो दिन के लिए धारा-144 लागू कर दी।

यहां किया सरकार का पिंडदान

हल्द्वानी में भी बेरोजगारों पर लाठीचार्ज के विरोध में उत्तराखंड युवा एकता मंच के युवा भर्ती घोटाला और बेरोजगारों से देहरादून में हुई बर्बरता को लेकर सड़कों पर हैं। रानीबाग स्थित चित्रशिला घाट में उत्तराखंड लोक सेवा आयोग, पुलिस व राज्य सरकार की सांकेतिक शवयात्रा निकालने के बाद युवाओं ने अंत्येष्टि और पिंडदान किया। वहीं, बुद्ध पार्क में युवा आगे की रणनीति बनाने के लिए सभा करने पहुंचने लगे। जिसके लिए भारी पुलिस बल तैनात हो गया।

पुलिस ने छीना CM का पुतला

कोटद्वार में युवा कांग्रेस ने महाविद्यालय में तालाबंदी की। महाविद्यालय बंद करने के बाद कार्यकर्ता मुख्यमंत्री के पुतले को लेकर तहसील में पहुंचे। मौके पर मौजूद पुलिस ने कार्यकर्ताओं से पुतला छीन लिया। इससे कार्यकर्ता भड़क गए और उन्होंने पुलिस के साथ ही प्रदेश सरकार के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी की।

CM धामी की अपील

CM पुष्कर सिंह धामी ने अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने युवाओं से किसी के भी बहकावे में नहीं आने और भ्रमित नहीं होने की अपील की है। बेरोजगार युवाओं ने अपनी मांगें मनवाने के लिए गांधी पार्क के बाहर सत्याग्रह शुरू किया था। यहां से देर रात पुलिस ने उन्हें उठा दिया। इससे गुस्साए युवा गुरुवार सुबह गांधी पार्क में जुटने लगे। इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई।

ये हैं प्रमुख मांगें

  • भर्ती परीक्षाओं में हुए घोटालों की CBI जांच कराई जाए।
  • तत्काल सख्त नकलरोधी कानून लागू किया जाए। (CM ने मंजूरी दे दी है.) 
  • नकल करके नौकरी पाने वालों की सूची सार्वजनिक की जाए।
  • भर्ती घोटालों की जांच पूरी होने और नकलरोधी कानून लागू होने के बाद ही भर्ती परीक्षाएं कराई जाएं।