उत्तराखंड : कीचड़ में फंसी बस, पैदल गई बरात, धरने पर बैठा दूल्हा

0
76

हल्द्वानी: सरकार और सरकारी अमला भले ही सड़कों के बेहतर होने कितने ही दावे क्यों ना करे, लेकिन कहीकत आज भी यह है कि सड़कें पूरी तरह से बदहाल हैं। इन बदहाल सड़कों को ठीक करने के लिए सीएम धामी ने फरमान सुनाया था कि सड़कें जल्द गड्ढा मुक्त हो जाएंगी। लेकिन, सच्चाई यह है कि अब दूल्हे को भी सड़क के लिए धरने पर बैठना पड़ रहा है।

नैनीताल जिले के हल्द्वानी में एक ऐसा मामला सामने आया है। यहां एक बारात सड़क के कीचड़ में फंस गई। हैड़ाखान मार्ग पर रास्ता खस्ताहाल होने के कारण बरात की बस जाम में फंस गई। लंबा जाम और आगे रास्ता खराब देख बरातियों ने दूल्हे के साथ पैदल ही बरात निकालने का फैसला लिया। इसके बाद एक-एक कर बस से सभी बराती और दूल्हा उतरे और बैंड बाजों के साथ बरात आगे चल पड़ी।

इस दौरान पैदल निकले दूल्हे ने देखा कि नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य व कांग्रेस के नवनिर्वाचित जिला अध्यक्ष राहुल छिमवाल समेत कई कांग्रेसी नेता इस मार्ग को बनवाने के लिए धरना प्रदर्शन कर रहे थे। तो बस दूल्हा राहुल भी उनके साथ धरने पर बैठ गया और सड़क को लेकर अपना गुस्सा जताया।

दूल्हे राहुल ने कहा कि यह मार्ग लंबे समय से खस्ताहाल हालत में है, लेकिन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। इससे लोगों को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है। इसके कुछ देर बाद दूल्हा बरात के साथ चला गया।

हेड़ाखान मार्ग पर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य करीब एक घंटे के उपवास पर बैठे। उन्होंने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भारत सरकार के शब्दकोश में ना ही विकास शब्द है और ना ही सरकार की नीयत साफ है। अगर सरकार चाहे तो इस मार्ग का बजट पास करके इसे बेहतर करते हुए दुर्गम पर्वतीय क्षेत्रों के लोगों का आवागमन सुगम बना सकती है।