उत्तराखंड : Ankita Murder case : कौन था चौथा दरिंदा?, जल्द होगा खुलासा!

0
6

देहरादून: अंकिता हत्याकांड (#ankitamurdercase) में हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। आरोपियों की SIT को रिमांड मिल चुकी है। ऐसे में पूछताछ के दौरान SIT को कुछ और जानकारियां मिल सकती हैं। लेकिन, इस बीच एक और खुलासा हुआ हे। हालांकि, उसका अब तक आधिकारिक खुलासा तो नहीं किया गया है। लेकिन, माना जा रहा है कि बहुत जल्द इसको लेकर जानकारी सामने आ सकती है और SIT इस चौथे व्यक्ति को भी आरोपी बना सकती है।

इससे पहले यह पता लगाया जा रहा है कि ये चौथा व्यक्ति कौन था। बताया जा रहा है कि इसी व्यक्ति ने पटवारी के पास गुमशुदगी दर्ज कराने की सलाह दी थी। इसकी पूरी जानकारी कॉल डिटेल के बाद बाहर आ सकती है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार तीन आरोपियों के अलावा कोई चौथा भी इस मामले में शामिल था, जिसने हत्या के बाद गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने की सलाह दी थी।

यह साल लगातार उठ रहा है कि वो वीआईपी कौन था, जिसके लिए एक्स्ट्रा सर्विस देने के लिए अंकिता पर दबाव बनाया गया था, जिसके लिए उसे मौत के घाट उतार दिया गया। अंकिता हत्याकांड में पकड़े गए तीन आरोपियों के अलावा इस हत्या का चौथा राजदार भी था।

रिपोर्ट की मानें तो SIT की पूछताछ में ये बात सामने आई है कि हत्या के बाद इस बात से निश्चिंत थे अब उनको कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। लेकिन, देर रात और सुबह कुछ लोगों से बातचीत के बाद पुलकित सक्रिय हुआ और उसने 19 सितंबर को पटवारी चौकी में अंकिता की गुमशुदगी लिखवाई। SIT उस रात इन सभी आरोपियों के पास मौजूद मोबाइल और अन्य मोबाइलों की डिटेल निकाल रही है।

ताकि ये पता चल सके कि किससे उनकी बात हुई। इसके अलावा पुलकित का जो मोबाइल घटना से पहले कथित रूप से अंकिता ने नहर में फेंका था, उस पर रातभर आए कॉल की भी SIT डिटेल निकाल रही है, ताकि ये पता चले कि किस-किस से उसका संपर्क हुआ था। इस चौथे राजदार (VIP) को भी इस केस में आरोपी बनाया जा सकता है।

पुलकित के फोन को लेकर पहले दिन से ही बातें कही जार रही थी कि पुलकित का फोन नहर में फेंक दिया गया था। लेकिन, अंकिता के जिस दोस्त ने इस मामले को मीडिया तक पहुंचाया उसने एक और खुलासा किया है। पुलिस को आरोपियों ने बताया कि पुलकित का मोबाइल फोन अंकिता ने नहर में फेंक दिया था। यह वाकया लगभग 9 बजे के आसपास का होगा, लेकिन पुलकित के मोबाइल पर रात साढ़े दस बजे तक घंटी जाती रही।

उसी रात को अंकिता के दोस्त पुष्प ने भी पुलकित के मोबाइल पर फोन किया था और फोन में घंटी गई थी, लेकिन किसी ने उठाया नहीं। जब पुष्प ने मैनेजर अंकित को फोन किया तो वह चौंक गया था। उसने हड़बड़ाते हुए पूछा था कि पुलकित सर के फोन में घंटी जा रही है?