बागी BJPनेता के समर्थन में दो सौ पार्टी कार्यकर्ताओं के इस्तीफे

0
89

मध्यप्रदेश : विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां तेज हैं। वहीं, दक्खन का दरवाजा कहे जाने वाले बुरहानपुर में इस बार मुकाबला सबसे ज्यादा रोचक देखने को मिल रहा है। यहां के चतुष्कोणीय मुकाबले में कांग्रेस से अल्पसंख्यक टिकट की मांग को लेकर बागी हुए नेताओं के एक दल ने एआइएमआइएम पार्टी से टिकट लेकर अल्पसंख्यक प्रत्याशी उतारा है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी से बागी होकर बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे हर्षवर्धन चौहान निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे हैं।

इसी बीच शुक्रवार को हर्षवर्धन चौहान के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी के करीब दो सौ कार्यकर्ताओं ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा देते हुए बुरहानपुर जिला अध्यक्ष को सौंपा। इस दौरान हर्षवर्धन चौहान ने अपने चुनाव चिन्ह ट्रक का एक सांकेतिक रूप भी जिला अध्यक्ष को सौंपा। हर्षवर्धन का कहना है कि उनके समर्थन में आगे अभी और कार्यकर्ताओं के इस्तीफों की झड़ी लगने वाली है।

बुरहानपुर जिले की चारों विधानसभा में से इस बार सबसे रोचक मुकाबला बुरहानपुर के शहरी विधानसभा क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। यहां से कांग्रेस और भाजपा दोनों ही के बागी मैदान में हैं। इस वजह से दोनों ही दलों को खासा नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है। वहीं, शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के दिवंगत प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे हर्षवर्धन चौहान के समर्थन में लगभग 200 भाजपा कार्यकर्ताओं ने बुरहानपुर जिला अध्यक्ष को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा सौंप दिया।

वहीं, इस दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ जिला अध्यक्ष से मिलने पहुंचे हर्षवर्धन चौहान ने भी उन्हें मिले चुनाव चिन्ह ट्रक का एक सांकेतिक रूप जिला अध्यक्ष को सौंपा। हर्षवर्धन ने जिला अध्यक्ष को चेताया कि अभी यह तो शुरुआत है और वे पार्टी में 1980 के वर्ष जैसी स्थितियां बना देंगे। इस तरह आगे लगातार कार्यकर्ताओं के इस्तीफे आते रहेंगे। हालांकि बुरहानपुर जिला अध्यक्ष ने इसको लेकर कार्यकर्ताओं की भावनाओं को प्रदेश कार्यालय तक पहुंचाने की भी बात की।