दिल्ली की सड़कों पर इन पांच लाख कारों पर लग जाएगा बैन!

0
53

ताज़ा

वर्ल्ड कप 2023

चुनाव 2023

राष्ट्रीय

शेयर बाजार

मनोरंजन

दुनिया

लाइफस्टाइल

बिजनेस

पॉलिटिक्स

टेक ज्ञान

अध्यात्म

स्पेशल

ऑटो

शिक्षा

एक्सप्लेनर

वायरल

जोक्स

आम मुद्दे

जॉब्स

कैरियर

शहर चुनें

ई-पेपर

Join Now

वीडियो

शॉर्ट्स

बदलाव कॉन्क्लेव

इजराइल-फलीस्तीन संघर्ष

निखरदा पंजाब

शारदीय नवरात्रि

नवरात्रि उत्‍सव क्‍व‍िज

म.प्र. – देश का गौरव

मैसी फर्ग्यूसन

क्या खरीदें

 

आपका साथी

HINDI NEWS

NEW-DELHI-CITY

दिल्ली की सड़कों पर इन पांच लाख कारों पर लग जाएगा बैन! करना पड़ेगा मेट्रो से सफर; ये है बड़ी वजह

Delhi Air Pollution दिल्ली में बीएस-3 पेट्रोल और बीएस-4 डीजल कार चला रहे हैं तो इन्हें छोड़ सार्वजनिक वाहनों में यात्रा करने की आदत डाल लें क्योंकि जल्द ही दिल्ली में इन कारों पर प्रतिबंध लग सकता है। दिल्ली में ऐसी कुल पांच लाख कारें पंजीकृत हैं जिनके लोग दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र के आवागमन करते हैं।

 

By V K Shukla

Edited By: Abhi Malviya

Published: Sun, 22 Oct 2023 08:10 PM (IST)

Updated: Sun, 22 Oct 2023 08:10 PM (IST)

 

दिल्ली की सड़कों पर इन पांच लाख कारों पर लग जाएगा बैन! करना पड़ेगा मेट्रो से सफर; ये है बड़ी वजह

दिल्ली की सड़कों पर पांच लाख कारों पर बैन लग सकता है। फोटो- जागरण ग्राफिक्स

HIGHLIGHTS

दिल्ली में BS-6 श्रेणी वाली बसें ही प्रवेश कर सकती है।

दिल्ली में ग्रेप का दूसरा चरण लागू हो चुका है।

वीके शुक्ला, नई दिल्ली। Delhi Air Pollution: दिल्ली में बीएस-3 पेट्रोल और बीएस-4 डीजल कार चला रहे हैं तो इन्हें छोड़ सार्वजनिक वाहनों में यात्रा करने की आदत डाल लें, क्योंकि जल्द ही दिल्ली में इन कारों पर प्रतिबंध लग सकता है। दिल्ली में ऐसी कुल पांच लाख कारें पंजीकृत हैं, जिनके लोग दिल्ली और NCR क्षेत्र के आवागमन करते हैं।

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी कहते हैं कि प्रदूषण को रोकना हम सब की जिम्मेदारी है। वह कहते हैं ग्रेप को लागू करने के लिए पूरी योजना बनी हुई है, जैसे ही ग्रेप का तीसरा चरण लागू होता है, इन कारों पर प्रतिबंध लग जाएगा या इससे पहले भी प्रतिबंध लगाया जा सकता है, क्योंकि दिल्ली मेें कुल होने वाले प्रदूषण में वाहनों की हिस्सेदारी 40 प्रतिशत के करीब है। उन्हाेंने कहा कि वैसे अभी इस बारे में कोई फैसला नहीं हुआ है।

दिल्ली में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता आयोग ने दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में इलेक्ट्रिक और सीएनजी से चलने वाले सार्वजनिक वाहनों को बढ़़ावा देने का निर्देश दिया है। इसके अलावा एक नवंबर से दिल्ली में केवल बीएस-6 श्रेणी वाली बसें ही दिल्ली में आ सकेंगी। इस बारे में भी राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता आयोग ने आदेश जारी कर दिए हैं।

दिल्ली में जिस तरह से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है, इससे इस बात के संकेत आ रहे हैं कि इस बारे में जल्द ही बीएस-3 पेट्रोल और बीएस-4 डीजल वाहनों पर फैसला लिया जा सकता है। पिछले साल दिल्ली में 30 अक्टूबर को ग्रेप-तीन लागू हुआ था, मगर इस बार यह इससे पहले ही लग सकता है।