शीतकालीन सत्र खत्म होने पर नाराज़ वेंकैया नायडु, बोले “क्षमता से कम काम हुआ, आप सभी…”

0
94

संसद के शीतकालीन सत्र ( Parliament Winter Session) के पहले ही दिन से संसद में विपक्ष हंगामा कर रहा है। आज एक बार फिर शीतकालीन सत्र के दौरान विपक्ष ने हंगामा किया। जिसके चलते दोनों सदनों को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। बताया जा रहा है कि शीतकालीन सत्र के के आखिरी दो दिन बचे थे। लेकिन हंगामे और गतिरोध के चलते आज ही इसका खत्म कर दिया गया। जिसके बाद राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडु नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि हमें जितनी उम्मीद थी, ये सत्र उसे भी कम चला है।

वेंकैया नायडु ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि “सदन अपनी क्षमता के मुकाबले बहुत कम चली। मैं आप सबसे आग्रह करता हूं कि आप आत्मावलोक करें कि इस सदन में काम कितना बेहतर हो सकता था। मेरा इसपर बहुत आलोचनात्मक नजरिया है।” सूत्रों के अनुसार सदन में कल तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डेरेक ओब्रायन को निलंबित कर दिया गया था। जिसके बाद वह भी निलंबित सांसदों के साथ प्रदर्शन में शामिल हो गए थे। बताया जा रहा है कि डेरेक ओब्रायन के ऊपर सदन की रूल बुक फाड़ने का आरोप है। जिसके चलते उनको निलंबित किया गया है।

वहीं, दूसरी ओर राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने भी सरकार पर निशाना साधा है। मल्लिकार्जुन खड़गे ने सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि “सरकार कामकाज चाहती ही नही थी। कल कोई बेल में नही गया था। कोई गड़बड़ नही हुई। लेकिन 11 बजे से 2 बजे तक स्थगित कर दिया। यही हाल परसो का भी रहा। कोई कारण नहीं था। सरकार के पास कोई एजेंडा ही नहीं था। ये लोग सिर्फ यही चाहते थे कि उनके जो मुद्दे हैं, जिनपर उनको विश्वास है, उसको किसी भी तरह से पास कर लेना है।”