दशहरा रैली को लेकर शिंदे-उद्धव गुट आमने-सामने, कोर्ट पहुंचा मामला

0
20

मुंबई : मुंबई में दशहरा रैली को लेकर घमासान मचा हुआ है। सरकार और उद्धव ठाकरे गुटों में तलवारें खिची हुई हैं। BMC ने शिवाजी पार्क में दशहरा रैली आयोजित करने को लेकर उद्धव ठाकरे के नेतृत्‍व वाली शिवसेनाऔर महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री एकनाथ शिंदे को इजाजत देने से इंकार कर दिया है। BMC के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी है। नगर निगम के अधिकारियों के मुताबिक, मुंबई पुलिस द्वारा उठाए गए कानून व्यवस्था से संबंधित मुद्दों के आधार पर शिवाजी पार्क में रैली आयोजन की अनुमति देने से इनकार किया गया।

बीएमसी आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया कि निगम ने दोनों को पांच अक्टूबर को दशहरा के अवसर पर शिवाजी पार्क में रैली आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। अधिकारियों ने कहा, बीएमसी ने दोनों गुटों को पत्र के माध्‍यम से इजाजत न दिए जाने की बात कही है। 22 अगस्‍त को ठाकरे गुट के अनिल देसाई ने रैली के आयोजन को लेकर बीएमसी की अनु‍मति के लिए आवेदन किया था।

इसके बाद 30 अगस्‍त को शिंदे गुट के विधायक सदा सरवनकर ने बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (बीकेसी) के एमएमआरडीए मैदान में रैली करने की अनुमति के लिए आवेदन किया। पिछले हफ्ते, शिंदे गुट को बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स के एमएमआरडीए मैदान में रैली करने की अनुमति दी गई थी।

इसके बाद उद्धव के धड़े वाली शिवसेना ने शिवाजी पार्क में दशहरा रैली के आयोजन की अनुमति मांगने के लिए बॉम्‍बे हाइकोर्ट का रुख किया। शिवसेना ने अपनी याचिका ने यह भी दलील दी है कि पार्टी 1966 से लेकर अब तक हर साल शिवाजी पार्क में दशहरा रैली का आयोजन कर रही है और बीएमसी ने हमेशा इसकी अनुमति दी है।