राहुल गांधी बोले : ‘BJP के नेता मेरे गुरू हैं, उन्होंने मुझे सिखाया, क्या नहीं करना चाहिए

0
29

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत जोड़ो यात्रा अब तक कामयाब रही, उम्मीद से ज्यादा उपलब्धि मिली है. उन्होंने कहा कि शुरू में लगा था कि ये केवल एक यात्रा है, बाद में महसूस हुआ कि यह एक जीवित चीज है. इसमें एहसास है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी ने भाजपा और आरएसएस के नेताओं को अपना गुरू बता दिया. उन्होंने कहा कि ‘मुझ पर हमला करने वाले आरएसएस–बीजेपी के मित्रों का धन्यवाद. मैं चाहता हूं कि वो मुझ पर और हमला करें. मैं उन्हें गुरू मानता हूं. उन्होंने मुझे सिखाया है कि राजनीति में क्या नहीं करना चाहिए?

राहुल गांधी ने विपक्षी एकता के सवाल पर कहा कि ‘विपक्ष के नेता हमारे साथ खड़े हैं. इसमें कोई शक नहीं है, लेकिन हर पार्टी की अपनी सियासी मजबूरियां होती हैं. भारत जोड़ो यात्रा में किसी का नहीं आना, उन पर निर्भर करता है, लेकिन इस यात्रा में सबका स्वागत है.’ उन्होंने कहा कि हम अपने साथ जुड़ने से किसी को नहीं रोकेंगे. अखिलेश, मायावती और अन्य अगर ‘मोहब्बत का हिंदुस्तान’ बनाना चाहते हैं और विचारधारा के बीच को जुड़ाव है, तो सभी लोग शामिल होंगे.

कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार की नाकामियों के कई मुद्दे हैं. बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दे हैं, लेकिन यात्रा के जरिए मेरा लक्ष्य देश को विकल्प देना है, हम देश को जीने को नया तरीका देना चाहते हैं. खुद के खिलाफ अभियान पर राहुल ने कहा कि सच्चाई को कोई अभियान या पैसा नहीं छिपा सकता.

राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा में अपनी सुरक्षा को लेकर कहा कि सरकार चाहती है, भारत जोड़ो यात्रा मैं बुलेट प्रूफ गाड़ी में करूं. जो मुझे मंजूर नहीं. उन्होंने कहा कि उनके नेता रोड शो करते हैं, तो कोई चिट्ठी नहीं लिखी जाती. ये मामला बना रहे हैं कि राहुल गांधी नियम तोड़ता है.

टी शर्ट को लेकर पूछे गए सवाल पर राहुल ने कहा कि क्या स्वेटर पहन लूं. मैं सर्दी से नहीं डरता. मुझे ठंड नहीं लग रही. जब ठंड लगेगी तब स्वेटर पहनना शुरू कर दूंगा. 2024 के लेकर राहुल ने कहा कि अगर विपक्ष एकजुट हुआ तो बीजेपी के लिए जीतना मुश्किल होगा, लेकिन विपक्ष के पास विजन होना चाहिए. बीजेपी के खिलाफ जबरदस्त नाराजगी है.

पीएम बनने के सवाल पर राहुल ने कहा कि ये भटकाने वाली बात है, इसमें मीडिया को रुचि है. आप पीएम होते तो 5 बड़े कदम क्या उठाते के सवाल पर राहुल ने पीएम वाली बात काटते हुए शिक्षा, रोजगार , उत्पादन , विदेश नीति को लेकर अपना दृष्टिकोण बताया. उन्होंने कहा कि कुछ नहीं हो सकता, अगर देश के लोग एक दूसरे से नफरत करें. मोहब्बत की नींव जरूरी है.