PMO के ‘लाल टोपी’ ट्वीट को मुद्दा बनाकर हमलावार हुआ विपक्ष, बोला “लाल किला का नाम काला किला कर दें तो…”

0
89

इन दिनों केंद्र में बैठी मोदी सरकार पर विपक्ष हमलावार है। हाल ही में PMO इंडिया के वैरिफाइड ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था। जिसमें समाजवादी पार्टी को निशाना बनाया गया था। इस ट्वीट में समाजवादी पार्टी को “लाल टोपी वाले” कहा गया था। उनके इस ट्वीट पर अब विपक्ष ने हमला बोला है। सिर्फ समाजवादी पार्टी ही नहीं बल्कि बाकी दूसरी पार्टियों ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधा। आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने इस ट्वीट के खिलाफ एक बयान दिया। जिसमें उन्होंने कहा कि आने वाले समय में ये लोग लाल किले का नाम बदलकर काला किला कर देंगे।

उन्होंने कहा कि “प्रधानमंत्री के ऑफिशियल टि्वटर हैंडल से इस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया जाना गलत है। खुद मोदी जी काली टोपी लगाते हैं, उनकी पार्टी काली टोपी लगाती है, उनकी मात्री संस्था भी काली टोपी लगाती है। यह काली टोपी लगाने वाले काले दिमाग के साथ काला कानून लाते हैं। मुझे हैरानी नहीं होगी अगर वह लाल किला का नाम बदलकर काला किला कर दें। क्या वह 15 अगस्त को काला किले पर झंडा फहराएंगे?” उनके अलावा सपा सांसद जया बच्चन ने भी इस मामले में अपनी बात सामने रखी। उन्होंने पीएम मोदी के लिए यूपी में रेड अलर्ट कर दिया। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लिए रेड अलर्ट है, यूपी में लाल टोपी आने वाली है।

वहीं, टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा कि “PMO के हैंडल से ऐसे ट्वीट कैसे कर सकते हैं। ये जनता के पैसे से चलता है, पार्टी फंड से नहीं। पीएमओ सरकारी दफ्तर है, निजी नहीं। पीएमओ के हैंडल से इस तरह की भाषा वाले ट्वीट करने का कोई तुक ही नहीं बनता। अगर आपको ये ट्वीट करने हैं तो पर्सनल हैंडल से करें।” इस बीच सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी इस ट्वीट पर अपना जवाब दिया। उन्होंने कहा कि “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषा बिगाड़ रहे हैं, क्योंकि उन्होंने अपने वादे पूरे नहीं किए, इसलिए उन्हें भाषा बदलनी पड़ी है।”