311 भारतीयों का मैक्सिको में बसने का सपना टूटा, सीमा से वापस लौटाया गया

0
289
Maxico City

विदेश में बसने का सपना देखना कई बार महँगा पड़ जाता है और अक्सर लोग इसका फ़ायदा उठाकर ठगने का मौक़ा भी नहीं छोड़ते ऐसा ही कुछ हुआ है 311 भारतीयों के साथ भी जो अजेंट के चक्कर में फँसकर लाखों गँवा बैठे और उनके सपने भी पूरे नहीं हुए। हाल ही में मेक्सिको के नेशनल माइग्रेशन इंस्टिट्यूट (INM) की ओर से यह कहा गया है कि मेक्सिको ने 311 भारतीयों को अवैध रूप से अपनी सीमा में प्रवेश करने और बिना पर्याप्त दस्तावेज़ों के वहां रहने की वजह से और इन भारतीयों के अवैध रूप से मैक्सिको बॉर्डर से अमेरिका में प्रवेश करने की कोशिश के कारण इन सभी 311 भारतीयों को दिल्ली रवाना कर दिया है।

बता दें कि नेशनल माइग्रेशन इंस्टिट्यूट (INM) की ओर से जारी बयान के अनुसार जिन प्रवासियों को वापस भेजा गया है, वे 60 फ़ेडरल माइग्रेशन एजेंटों के ज़रिए यहां पहुंचे थे। हमारी जांच में पता चला कि इनके पास पर्याप्त दस्तावेज़ नहीं थे। नियमित तौर पर रहने के लिए आवश्यक दस्तावेज़ नहीं होने के बाद भी पिछले कई महीनों से ये यहां रह रहे थे। सूत्रों से प्राप्त ख़बरों के मुताबिक इन अवैध रूप से मेक्सिको में रह रहे भारतीयों के ग्रुप के सभी सदस्यों ने 25 से 30 लाख रुपये एजेंट्स को दिए थे। मैक्सिको बॉर्डर के ज़रिए एजेंट्स ने सभी भारतीयों से अमेरिका की सीमा में प्रवेश और नौकरी दिलाने का वादा किया था।

इस रक़म में हवाई यात्रा के साथ ही मेक्सिको में रुकने की व्यवस्था, खाने-पीने का इंतज़ाम भी शामिल था। ख़बरों के अनुसार एजेंट्स ने 1 सप्ताह से लेकर 1 महीने तक का समय अमेरिका की सीमा में प्रवेश के लिए दिया था। अवैध तरीकों से अमेरिका पहुंचने का 311 भारतीयों का सपने उन पर बहुत भारी पड़ा है। इस सपने ने उन्हें बहुत भारी झटका दिया है। उनके लाखों रुपए तो डूबे ही, परेशानी और इस तरह से डिपार्ट किए जाने की शर्मिंदगी भी झेलनी पड़ी है।