महीने की शुरुआत में ही FPI निवेशकों ने की बिकवाली, निकाले इतने करोड़ रूपये…

0
21

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने मई के महीने में शुरुआती चार कारोबारी सत्रों में भारतीय शेयर बाजारों से 6,400 करोड़ रुपये से ज्यादा की निकासी की थी। जिसके बाद अब खबरें है कि इस महीने की शुरुआत भी विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने बेचने से ही की है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक जुलाई के पहली ही दिन विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने भारतीय बाजार से कुल मिलाकर 811 करोड़ रुपए निकाले हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार अप्रैल 2022 से तक लगातार एफपीआई भारतीय बाजारों में शुद्ध बिकवाल रहे हैं।

बता दें कि अब तक उन्होंने शेयरों से 1.65 लाख करोड़ रुपये से अधिक की निकासी की है। ये निकासी आगे कुछ और महीनों तक जारी रहने की आशंका है। बढ़ती मंहगाई और महामारी और आक्रामक मौद्रिक नीति के सख्त होने के कारण मंदी की आशंका है। जिसके चलते निवेशक खूब बिकवाली कर रहे हैं। इस बीच जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार ने एक बयान जारी किया है। इस बयान में मुख्य निवेश रणनीतिकार डॉ वीके विजयकुमार ने कहा कि एफपीआई भारत जैसे बढ़ते चालू खाता घाटे (सीएडी) वाले देशों में अधिक बेच रहे हैं क्योंकि ऐसे देशों की मुद्राएं अधिक गिरावट की चपेट में हैं।”

हालांकि इस बीच उन्होंने कहा कि यहां अब बिकवाली का फ्लो कम होता दिख सकता है। इसके बारे में बातचीत करते में विजयकुमार कहते हैं कि “अगर जुलाई में बाजार में पहली तिमाही के अच्छे नतीजों की उम्मीद या प्रतिक्रिया होती है, तो एफपीआई फिर से बेच सकते हैं। यह बिकवाली तभी रुकेगी जब डॉलर स्थिर होगा और यूएस बॉन्ड यील्ड में गिरावट आएगी।”