इतना फ़ास्ट होगा नेट कि चुटकियों में खुलेंगे मनचाहे पेज, इस्तेमाल कर सकते हैं

0
246
प्रतीकात्मक तस्वीर

5G यानी भविष्य की टेक्नोलॉजी है। हमारा पड़ोसी देश चीन 5G टेक्नोलॉजी को लेकर बहुत गंभीर है। और इसे अपने देश में जल्द से जल्द लागू करने में लगा हुआ है। एक अनुमान के अनुसार 2020 तक चीन में 5G की टेक्नोलॉजी पूरी तरह से लागू हो जाएगी। अगर 5G टेक्नॉलॉजी की तुलना 4G से करें, तो 5G नेटवर्क की स्पीड 4G से हर स्तर पर बेहतर है। 5G टेक्नोलॉजी से मैसेज सेंड करने से रिसीवर तक पहुंचने में बहुत कम समय लगेगा। क्योंकि इंटरनेट की स्पीड 4G से कहीं ज़्यादा तेज़ होगी।

साथ ही हाई-बैंडविथ और अल्ट्रा-लो लेटेंसी से वह काम संभव है। जो पहले संभव नहीं था। 4G की लेटेंसी 10ms है तो 5G की लेटेंसी 1ms है। 4G का डेटा ट्रेफिक 7.2 एक्साबाईट/ महीना है तो 5G का डेटा ट्रेफिक 50 एक्साबाईट/महीना है।
4G का पीक डेटा रेट है 1GB/S तो 5G का पीक डेटा रेट  20Gb/S है।  4G का मौजूद स्पेक्ट्रम 3GHz है तो वहीं 5G का मौजूदा स्पेक्ट्रम 30GHz है।  4G का कनेक्शन घनत्व एक लाख है, तो 5G का कनेक्शन घनत्व दस लाख है।

4G का लेटेंसी 1.87 MB/S है। जबकि 5G का लेटेंसी 12.5 MB/S है। अगर तकनीकी शब्दों का प्रयोग करें, तो 4G का स्पेक्ट्रम 3 गीगाहर्ट्ज़ पर मौजूद है, तो 5G का स्पेक्ट्रम 30 गीगाहर्टज़ होगा। 4G का पीक डेटा रेट जहां 1GB/सेकंड है, वहीं 5G का 20GB/ प्रति सेकंड होगा। 5G को भविष्य की तकनीक कहना ग़लत नहीं होगा। 5G का प्रयोग शुरु करने के बाद ऑपरेटर साइट से दूर, कहीं से भी हैवी मशीनें चला पाएंगे। जो ख़तरनाक वातावरण में जोखिम को कम करेगा। साथ ही साथ मैसेज के जल्दी पहुंचने से डॉक्टर रोबोट के ज़रिए सर्जरी कर सकेंगे। इसके साथ ही तेज़ स्पीड और कम लेटेंसी के चलते 5G कई डिवाइसों को एक साथ चलाने में सक्षम है। जब हम 5G की स्पीड की बात करते हैं, तो 5G के साथ 300 एमबी के 75 फोटो 2 सेकेंड में, 5GB की सीरीज़ 8 सेकंड में, और इसके अलावा इस 105 GB का बैकअप 60 सेकंड में, और 20GB का स्पेशल एडिशन 120 सेकंड में मिल सकेगा।