कैसी है रॉकी और रानी की प्रेम कहानी, करण जौहर की निर्देशन में वापसी

0
113

रॉकी और रानी की प्रेम कहानी’ के साथ निर्माता-निर्देशक करण जौहर ने सात साल बाद निर्देशन में वापसी की है। इस बीच उन्होंने ओटीटी के लिए निर्देशन किया, मगर सिनेमाघरों में उनके डायरेक्शन में बनी आखिरी रिलीज 2016 में आयी ऐ दिल है मुश्किल है, जिसमें रणबीर कपूर लीड रोल में थे और अब उनकी वापसी रणवीर सिंह के साथ हुई है। पारिवारिक फिल्म कभी खुशी कभी गम और कुछ कुछ होता है, कभी अलविदा ना कहना, ऐ दिल है मुश्किल जैसी रोमांटिक फिल्म बना चुके करण इस बार राकी और रानी की प्रेम कहानी में इन दोनों जॉनर का मिश्रण लेकर आए हैं।

कहानी है रॉकी और रानी के प्रेम की, लेकिन परिवार के बिना प्रेम कहानी आगे नहीं बढ़ सकती है। कहानी शुरू होती है दिल्ली के रहने वाले रॉकी रंधावा (रणवीर सिंह) के साथ, जिसका जीवन में लक्ष्य अपनी बॉडी बनाना और अजीबोगरीब अतरंगी कपड़े पहना। वहीं, रानी चटर्जी (आलिया भट्ट) महत्वाकांक्षी है। न्यूज चैनल में एंकर है। दोनों की मुलाकात होती है उनके दादा-दादी की वजह से। रॉकी के दादा कंवल (धर्मेंद्र) और रानी की दादी जामिनी (शबाना आजमी) किसी जमाने में एक-दूसरे से प्यार किया करते थे, लेकिन दोनों की शादी अलग-अलग जगहों पर हो गई थी।

अब रॉकी और रानी उन्हें मिलाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इस बीच उन्हें आपस में प्यार हो जाता है। रॉकी और रानी को इस बात का एहसास है कि दोनों के परिवार का रहन-सहन, संस्कृतियां एक-दूसरे से बिल्कुल मेल नहीं खाते हैं। ऐसे में परिवार को वह कैसे इस रिश्ते के लिए तैयार करेंगे। इस बीच बातों-बातों में आइडिया निकलकर आता है कि क्यों न दोनों एक-दूसरे के परिवार के साथ तीन महीने बिताएं, ताकि उन्हें और उनके परिवार वालों को यह बात समझ में आए कि क्या वह आगे एक-दूसरे के साथ पूरी जिंदगी बिता पाएंगे? दोनों एक-दूसरे के परिवार को इंप्रेस करने के लिए पहुंच जाते हैं। क्या दोनों एक-दूसरे के परिवार का दिल जीत पाएंगे? कहानी इस पर आगे बढ़ती है।

करण जौहर की फिल्मों की खास बात होती है कि उनका फ्रेम लार्जर देन लाइफ होता है, उसमें बहुत से रंग होते हैं, भव्य सेट, विदेशी लोकेशन पर गाने यह सारे मसाले उन्होंने इस फिल्म में भी बरकरार रखे हैं। भावनाओं को ह्यूमर के साथ मिलाने की कला करण में है। अपनी पिछली फिल्मों की ही तरह उन्होंने पारिवारिक मूल्यों के साथ कहानी में अहम संदेश भी है। हालांकि, वहां तक पहुंचने में फिल्म समय लेती है। करण ने कॉमेडी और भावनात्मक दृश्यों के बीच दो परिवारों को लेकर जो संतुलन बनाया है, वह सराहनीय है। रॉकी जहां, रानी के गंभीर स्वभाव वाले सदस्यों के बीच रहकर हंसाता है। वहीं रानी, रॉकी के परिवार के बीच रहकर कुछ गंभीर दृश्य लेकर आती है।

कहानी को तर्कसंगत रखने के लिए कुछ किरदारों का चित्रण पटरी से उतर गया है। रॉकी और उसकी बहन गायत्री इतने बड़े और अमीर परिवार से हैं। दिल्ली में रहते हैं, लेकिन फिर भी वह पढ़े लिखे क्यों नहीं हैं, ये सवाल मन में रह जाते हैं। फिल्म के कुछ दृश्य गुदगुदाते हैं- ‘देवदास’ के गाने डोला रे डोला पर रणवीर सिंह और टोटा रॉय चौधरी का डांस तालिया बटोरता है।