रिश्तों का कत्ल…शादी से इनकार पर मिली मौत, मौसेरे भाई ने लोहे की रॉड की हत्या

0
61

नई दिल्ली : महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। ऐसी हम नहीं, बल्कि दिल्ली में सामने आ रही घटनाएं बयां कर रही हैं। दिल्ली में हर रोज महिलाओं के साथ अपराध की खबरें सामने आती हैं, जहां मामूली बात और विवाद को लेकर महिलाओं या लड़कियों की हत्या कर दी जाती है। अब ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जहां 28 वर्षीय एक युवक ने अपनी मौसेरी बहन पर लोहे की रॉड से हमला कर उसकी हत्या कर दी।

क्रवार दोपहर करीब 12 बजकर आठ मिनट के आसपास जानकारी मिली थी कि अरबिंदो कॉलेज के पास विजय मंडल पार्क शिवालिक ए ब्लॉक पर एक लड़का एक लड़की को जान से मारकर भाग गया है। लड़की के पास एक लोहे की रॉड पड़ी थी। लड़की की पहचान नरगिस के रूप में हुई है जो दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेज कमला नेहरू से पढ़ाई कर रही थी।
पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। घटना अरबिंदो कॉलेज के पास की है। आरोपित लड़की पर रॉड से हमला करने के बाद मौके से फरार हो गया था, जिसे अब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित की पहचान इरफान (28) पुत्र ईसा खान निवासी संगम विहार के रूप में हुई है। इरफान का परिवार मूलरूप से औरैया का रहने वाला है।
शुरुआती जानकारी के अनुसार, पुलिस ने बताया कि नरगिस की हत्या करने वाला कोई और नहीं उसका मौसेरा भाई है जो उससे शादी करना चाहता था। लेकिन नरगिस के परिवार ने उनकी शादी से इनकार दिया था। इसके बाद लड़की ने उससे बात करना बंद कर दिया था, जिसके बाद आरोपित परेशान हो गया और लड़की के सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक, नरगिस ने इसी साल कमला नेहरू कॉलेज से ग्रेजुएशन पूरी की थी और वह मालवीय नगर इलाके से स्टेनो की कोचिंग कर रही थी।

 

डीसीपी साउथ चंदन चौधरी ने बताया कि “घटना पार्क के अंदर हुई है। मृतक लड़की कॉलेज की छात्रा है। इस पार्क में अक्सर कॉलेज के लड़के-लड़कियां आते रहते हैं। वह अपने किसी दोस्त के साथ पार्क में आई थी। लड़की के सिर पर चोट के निशान हैं। एक रॉड भी उसके शव के पास से मिली है। हम मामले की जांच कर रहे हैं।

वहीं, घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय विधायक सोमनाथ भारती विकास मंडल पार्क पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने कहा कि यह डीडीए का पार्क है। डीडीए, लॉ एंड आर्डर और पुलिस केंद्र सरकार के अधीन है। लेकिन केंद्र सरकार अपने दायित्वों का निर्वहन करने में फेल हुई है, जबकि दिल्ली सरकार के अधीन शिक्षा, स्वास्थ्य, डीटीसी बस और रोड इत्यादि में उल्लेखनीय कार्य किया गया है।