ऐतिहासिक शीतकालीन चारधाम तीर्थ यात्रा संपन्न

0
26

1जनवरी 24, जोशीमठ, चमोली, उत्तराखंड:

‘शीतकालीन चारधाम तीर्थ यात्रा’ पूरी हुई।

ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामिश्रीः अविमुक्तेश्वरानंदः सरस्वती ‘१००८’ जी महाराज ने कहा कि उत्तराखंड के चार धामों की शीतकालीन पूजा शीतकालीन पूजा स्थलो में निरंतर होती रही है। लेकिन लोगों को इस बारे में जानकारी न होने के कारण श्रद्धालु खुशीमठ , मुखीमठ, ऊखीमठ और जोशीमठ नहीं आ पाते हैं। इन स्थानों मे अधिक से अधिक तीर्थ यात्री आकर पुण्य अर्चित करें, इसी उद्देश्य के लिए यात्रा की गई ।

चारधाम तीर्थ यात्रा के समापन के बाद स्थानीय पत्रकारों से बात करते हुए शंकराचार्य जी महाराज ने कहा शीतकालीन पूजा स्थलों की जानकारी अधिक से अधिक लोगों को हो इसके लिए सरकार के साथ ही स्थानीय और धार्मिक गतिविधि से जुड़े लोगों को पहल करनी होगी ।

बदरीनाथ और केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद होने के बाद मानवीय गतिविधियां लगातार बढने पर चिंता जताते हुए कहा कि इस पर अंकुश लगाया जाना आवश्यक है । धामों की मर्यादा बनाए रखना पहली प्राथमिकता होनी चाहिए । इसके लिए सरकार, शासन प्रशासन को कठोर कदम उठाना होगा ।

सम्पूर्ण पैनखंडा के लोगों की लंबे समय से ज्योतिर्मठ में एक अत्याधुनिक सुविधाओं से संपन्न चिकित्सालय की मांग थी । इस दिशा में वे निरंतर प्रयासरत हैं । पहले चरण में भूमि चयन की प्रक्रिया पूरी हुई है ।

ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामिश्रीः अविमुक्तेश्वरानंदः सरस्वती ‘१००८’ जी महाराज ने कहा कि बदरीनाथ भगवान की शीतकालीन पूजा नृसिंह मंदिर, जोशीमठ में की जाती है । इसमें किसी को भी संशय नहीं होना चाहिए।