दिवाली ने खराब किया दिल्ली वालों का हाल, ‘खतरनाक’ श्रेणी में पहुंची हवा, आसमान में छाया…

0
93

बीते दिन देश में दिवाली का त्योहार मनाया गया। प्रदूषण को देखते हुए दिवाली का त्योहार सबसे खतरनाक माना जाता है। त्योहार शुरू होने से ही पहले लोगों को आतिशबाजी करने से मना कर दिया जाता है। लेकिन लोग इसका पूरी तरह से पालन नहीं करते। दिवाली के बाद आज देश की राजधानी दिल्ली के साथ साथ आस पास के इलाकों में काफी प्रदूषण नजर आया। जिसके कारण शुक्रवार सुबह हवा की गुणवत्ता ‘खतरनाक’ श्रेणी में पहुंच गई। सरकार के प्रदूषण रोकने के सारे प्रयास नाकाफी साबित होते हुए नजर आए। जानकारी के मुताबिक आसमान पर धुंध की मोटी चादर छाई नजर आई है।

बता दें कि शहर का एयर क्वालिटी इनडेक्स कल शाम 4 बजे 382 स्तर पर था। लेकिन फिर धीरे धीरे शहर का तम्पान बढ़ता गया और हवा का चलन तेज हो गई। जिसके चलते प्रदूषण नियंत्रण में नहीं रहा। शुक्रवार सुबह जनपथ में वायु गुणवत्ता (Air Quality Index) का स्तर 655.07 पर रहा। जो की काफी खतरनाक है। प्रदूषण के कारण लोगों की परेशानियों बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। लोगों को आंखों में पानी आने और गले में खारिश की शिकायत सामने आ रही हैं। प्रदूषण के बढ़ने से दिल्ली के प्रदूषण स्तर में पराली जलाने का योगदान बढ़कर 25 प्रतिशत हो गया है।

वहीं अगर बात करें आस पास के शहरों की तो फरीदाबाद में एयर क्वालिटी इनडेक्स 424, गाजियाबाद में 442, गुड़गांव में 423 और नोएडा में 431 के स्तर पर दर्ज किया गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’ माना जाता था। वहीं अगर 51 और 100 हो तो उसको ‘संतोषजनक’ कहा जाता है। इसके अलावा 101 और 200 को ‘मध्यम’, 201 और 300 को ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ कहते हैं। वहीं अगर 401 और 500 हो तो वो ‘गंभीर’ होता है।