कोरोना के खौफ से राजनीतिक दलों ने बदली अपनी रणनीति, अब डिजिटल तरह से होगा…

0
58

कोरोना वायरस भारत में तेज़ी पकड़ रहा है। दूसरी लहर के बाद अब भारत कोरोना की तीसरी लहर से जूझ रहा है। बढ़ते कोरोना का असर भारत के सभी राज्यों में देखने को मिल रहा है। ऐसे में भारत के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। जो इस समय परेशानी की वजह बना हुआ है। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच चुनाव करवाना बहुत ही मुश्किल काम है। बता दें कि चुनाव से पहले ही कोरोना का खौफ देखने को मिल रहा है। कोरोना वायरस (corona virus) के नए संक्रमण ओमिक्रॉन (Omicron) ने सभी राजनीतिक दलों को वर्चुअल रेलियों पर मजबूर कर दिया है।

बता दें कि देश के पांच राज्यों में चुनाव होगा। इन राज्यों में उत्तर प्रदेश भी शामिल हैं। उत्तर प्रदेश देश के सबसे ज्यादा आबादी वाला राज्य है और यहां सबसे ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ा जाता है। बढ़ते कोरोना के केहर को देखते हुए इस राज्य के महत्वपूर्ण चुनाव में सभी राजनीतिक दलों को डिजिटल अभियानों की तरफ रुख करना पड़ा है। भाजपा (BJP) ने संपर्क अभियान शुरू करने की योजना बनाई है तो कांग्रेस घर-घर जाकर संपर्क करेगी। अखिलेश वर्चुअल रैलियां करेंगे तो बसपा सोशल मीडिया प्लेटफार्म के साथ अन्य वर्चुअल माध्यम से अपने मतदाताओं तक पहुंचेगी।

कोविड संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने कुछ दिनों पहले ही जमीनी रैलियों, मैराथन और चुनावी अभियानों को स्थगित करने का ऐलान किया था और अब पार्टी वर्चुअल मोड में आ चुकी है। जानकारी के अनुसार कांग्रेस महासचिव प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा आज दोपहर बाद अपने सोशल मीडिया पेजों पर पार्टी की महिला केंद्रित ‘लड़की हूं लड़ सकती हूं’ अभियान के बारे में बात करेंगी। कांग्रेस के साथ साथ बाकी और दल भी तैयारी में जुटे हुए हैं।