भारत को धोखा दे रहा चीन, डोकलाम पर जमा होने लगी चीनी सेना

0
210

डोकलाम पर चले लंबे विवाद के बाद बातचीत से बहाल हुई शांति अब चीन फिर भंग करने में लगा है। इतना ही नहीं उसने अपना वादा तोड़ते हुए डोकलाम पर अपनी सेना का भारी जमावड़ा करना शुरू कर दिया है। लिहाजा डोकलाम मामले पर भारत और चीन के बीच तनाव एक बार फिर बढ़ सकता है।

इससे पहले 73 दिन तक चले डोकलाम विवाद के बाद दोनों देशों ने अपनी-अपनी सेनाओं को वापस बुला लिया था, लेकिन अब खबर है कि भारत के पीछे हटते ही डोकलाम में चीनी सेना का जमावड़ा होना शुरू हो गया है। अस्पुष्ट समाचारों के मुताबिक चीन विवादित क्षेत्र से करीब 10 किमी दूर पूर्व में बनाई सड़क का चौड़ीकरण करने में लगा है। आशंका यह भी है कि वह फिर से विवादित जगह पर सड़क निर्माण का काम शुरु कर सकता है। अगर ऐसा हुआ तो यह भारत के साथ बड़ा धोखा होगा।

भारत के साथ चीन का यह धोखा ठीक वैसा ही होगा जैसा कारगिल में पाकिस्तान ने तब किया था जब बर्फ़बारी के बाद दोनों देशों की सेनाएं अपनी-अपनी पोस्ट से नीचे उतर आई थीं और पाकिस्तान ने चुपके से इन पोस्टों पर कब्ज़ा कर लिया था। यहां भी बातचीत से हल निकलने के बाद चीन डोकलाम पर कब्जा करने की कोशिश में लगा हुआ है।
मालूम हो कि डोकलाम भूटान की जमीन पर आता है और चीन इस पर कब्जा करना चाहता है। यहां से मुख्य भारत और पूर्वोत्तर के राज्यों को जोड़ने वाला हिस्सा चीन के बेहद करीब आ जाएगा, जो भारत के लिए चिंता की बात है।
अपने सैनिक अभ्यास के कारण चुंबी घाटी पर चीनी सैनिक पहले से ही मौजूद थे। भारत आश्वस्त था कि अभयस के बाद चीन अपने सैनिक हटा लेगा लेकिन अब खबर ये है कि इन चीनी सैनिकों की तादाद तेजी से बढ़ाई जा रही है। सूत्रों के मुताबिक डोकलाम ट्राइजंक्शन पर जिस जगह पिछली बार विवाद हुआ था, वहां से थोड़ी ही दूरी पर करीब 500 चीनी सैनिक जमा हैं।

चीनी सैनिकों के इस जमावड़े को लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जबरदस्त हमला बोला है। उन्होंने एक खबर को शेयर करते हुए, जिसमें कहा गया है कि डोकलाम पर अभी भी 500 से ज्यादा चीनी सैनिक तैनात हैं, ट्वीट कर कहा कि मोदी जी, अगर आपको अपनी तारीफ से फुर्सत मिल रही हो, तो क्या इसे समझ सकते हैं?
राहुल गाँधी के अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी पीएम मोदी पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि डोकलाम में क्या हो रहा है? चीन फिर सक्रिय हो गया है। आपने तो कहा था कि मामला खत्म हो गया है। हमारी चिकन नेक में चीन अपना बल बढ़ाए जा रहा है और आप कह रहे थे कि आपकी चीन के राष्ट्रपति से मुलाकात अच्छी रही। तो क्या झूला झुलाने के लिए फिर बुलाएंगे।