BJP के बड़े नेताओं ने लगाया ममता सरकार पर आरोप, कहा ‘TMC छोड़ी है तबसे…’

0
171

साल 2021 में पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधान सभा चुनाव (Assembly election 2021) होने जा रहे हैं। जिसके लिए पार्टियों की तैयारियां जोरों शोरों से शुरू हो गई हैं। ऐसे में पश्चिम बंगाल की सबसे बड़ी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (Trinamool congress party) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच टकराव बढ़ने लगा है। बता दें कि इस बीच दोनों पार्टियों के बीच का विवाद अब सुप्रीम कोर्ट (supreme court) तक जा पहुंचा है।

बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने ममता बनर्जी सरकार पर आरोप लगाया कि वह जानबूझ कर नेताओं के खिलाफ नए मामले दर्ज कर रही है। जिसके लिए वह अब सुप्रीम कोर्ट के दरवाज़े तक पहुंच गए हैं। इस मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार को एक नोटिस जारी किया है और फिलहाल अगले आदेश तक भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के खिलाफ कार्यवाही पर रोक लगाने को कहा है। गौरतलब रहे कि आने वाले कुछ ही महीनों में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। जिसके लिए कोई भी पार्टी पीछे नहीं हटना चाहती।

इस दौरान बीजेपी राज्य में अपनी पकड़ मजबूत करना चाहती है तो वहीं ममता बनर्जी की टीएमसी भी किसी तरह भी अपना पल्ला हल्का नहीं करना चाहती। जिसके चलते दोनों के बीच लगातार विवाद जारी है। बता दें कि बीजेपी के बड़े नेता मुकुल रॉय, कैलाश विजयवर्गीय, अर्जुन सिंह, पवन कुमार सिंह, कबीर शंकर बोस ने टीएमसी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने याचिका दर्ज की थी। जिसके बाद इसकी सुनवाई में कोर्ट ने पश्चिम बंगाल सरकार को नोटिस जारी किया। वहीं जब कोर्ट ने सांसद अर्जुन सिंह पर लगे 64 मुकदमों के बारे में पूछा तो उनके वकील बोले कि “जब से अर्जुन सिंह ने टीएमसी छोड़ी है तब से नवंबर 2020 के बीच ये सभी मामले दर्ज किए गए हैं।” अर्जुन सिंह ने कहा कि “मैं सांसद हूं और मेरे खिलाफ दंगा भड़काने के मुकदमें दर्ज कराए गए, जो राजनीति से प्रेरित हैं।”