भ्रष्टाचार के मामले में दिल्ली के LG का बड़ा आदेश, तीन बड़े अधिकारी निलंबित…

0
83

देश में भ्रष्टाचार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले कुछ सालों में इसके खिलाफ कई एक्शन लिए जा चुके हैं और कई अधिकारियों को निलंबित भी कर दिया जा चुका है। इस बीच अब एक और बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि भ्रष्टाचार के मामले में देश की राजधानी दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने राज्य के तीन बड़े अधिकारियों को निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं। इन अधिकारियों में एक डिप्टी सेक्रेटरी का भी नाम शामिल है। डिप्टी सेक्रेटरी के साथ दो एसडीएम को भी निलंबित किया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार निलंबित अधिकारियों में एसडीएम वसंत विहार हर्षित जैन, एसडीएम विवेक विहार देवेंद्र शर्मा और मुख्यमंत्री कार्यालय से जुड़े उपसचिव प्रकाश चंद ठाकुर का नाम शामिल है। इनके ऊपर आरोप है कि इन्होंने तय प्रक्रिया में चूक की है, जिससे भ्रष्टाचार होने की संभावना दिखाई देती है। ऐसे में जब तक इस मामले की पूरी कार्यवाही नहीं हो जाएगी तब तक ये तीनों अधिकारी निलंबित रहेंगे। वहीं आपको बता दें कि हाल ही में सांसद मनोज तिवारी की एक साल पुरानी अस्पताल बनाने में गड़बड़ी की शिकायत पर उप राज्‍यपाल ने ACB जांच का आदेश दिया था।

उनके इस आदेश के विरोध में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कुछ सवाल उठाए थे। उन्होंने एक बयान जारी कर कहा था कि “अगर किसी जनसेवक के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत आती है तो जांच एजेंसी इस मामले में तब तक जांच शुरू नहीं कर सकती जब तक सरकार इसकी इजाजत न दे। इस मामले में निर्वाचित सरकार से इजाजत नहीं ली गई।” वहीं मंगलवार को भी अपने एक बयान में वह कहते हैं कि “भ्रष्टाचार निरोधक कानून के मुताबिक, ऐसी किसी भी शिकायत पर 4 महीने के भीतर फैसला करना होता है जबकि इस मामले में शिकायत किए हुए करीब एक साल का समय हो चुका है।”