अपनी शादी कैंसल कर ऑटो ड्राइवर ने किया ये पुन्य का काम, जमा रकम से की…..

0
377

कोरो’ना वाय’रस से इस वक़्त पूरी दुनिया ल’ड़ रही है। सभी देश इससे छुटकारा पाने की पूरी कोशिश कर रही है। वही भारत भी अपनी पूरी कोशि’श कर रहा है और देश में लॉ’कडा’उन की इस्ति’थि बनी हुई है। जिसकी वजह से सब काम बंद पड़े हैं और मज़दूर और गरीब लोग सबसे ज्यादा परे’शान है और बहुत से गरीब लोगों को खाना भी नसी’ब नही हो पा रहा इसी के चलते सब लोग म’दद के लिए आगे रहे है। वही एक ऑटो ड्राइवर ने अपने शादी के लिए जमा किये हुए सारे पैसे जिनकी कीमत लगभग 2 लाख थी सब गरीबो की म’दद के लियर ख’र्च कर दिए ।

सुत्रो ने बताया हाई की उस ड्राइवर की 25 मई को शादी थी मगर लॉ’कडा’उन की वजह से ना हो सकी तो उसने इस नेक काम में अपनी शदी के पैसे गरिबो में ख’र्च कर दिए। प्रवासी श्रमिकों के लिए खाने का इंतजाम उन पैसो से किया गया। इसी के चलते वो लोगों को बहुत पसंद आया और बहुत से लोग उसकी मद’द के लिए आगे आये और उन्हें पैसो की म’दद भी मिलीं लेकिन ऑटो वाले  अक्षय कोठवाले उन पैसो को भु’को को खाना खिलवा रहे है और श्रमिकों की मद’द कर रहे है कोठवाले ने पीटीआई भाषा से कहा कि जो भी उसको म’दद दी जा रही है वो उसके आभारी है और वो इस पैसो का इस्तेमाल गरीबों के लिए कर रहा है।


उसकी शादी 25 मई को होने वाली थी और उसने अपनी शादी के लिए 2 लाख रुपए जमा कर रखे थे मगर लॉ’कडा’उन की वजह से उसकी शादी कैंस’ल हो गयी थी। इस लॉ’कडा’उन में परे’शान गरीब और मज़दूर के खाने के ला’ले प’ड़ रहे है और खास कर के जो प्रवासी मज़दूर है जो अपना सफर पैद’ल ते कर रहै है उनकी परे’शानी उस ऑटो ड्राइवर से देखी ना गयी उसने अपने दोस्तों के साथ मिल कर कही रास्ते मे एक रसोई घर बना कर उसमें प्रवासियों के लिए खाना बनाया गया और उसने सब लोगों को अलग अलग जगह पर  खाना भी परोसा।

सुत्रो से पता चला है कि पिछ्ले महीने ही उसके पिता जी की मृ’त्यु हो गयी थी मगर उसके सच्चें इरादों को उसके पिता की मौ’त का दु’ख भी ना हिला सका। वो अपनी पूरी को’शिश कर रहा है इसी के चलते जब लोगों को ये बात मालूम हुए तो सभी लोगों ने उसकी मद’द के लिए हाथ आगे बढ़ाये और उसको पैसो की म’दद दी उसने बताया कि उसके पास लोगों की मद’द से दिया हुआ पैसा तकरीबन 6 लाख हो गया उसने लोगों का शुक्रिया अदा किया और उन पैसो से भी उसने जगह जगह प्राविसियो के खाने का इं’तजाम किया है। उसने कहा “हमारे हाथ मे जो पैसे आये है हमने उसे थॉकबाजार से किराना के ज़रूरी सामान और पके हुए भोजन ख़रीदे। हम ज़रूरतमंदो के बीच राशनकिट बाटने की योजना बना रहे हैं।” सूत्रों से पता चला है कि कोठवाले लोगो मे खाना बाटने के अलावा अपने ऑटो रिक्शा से प्रेगनेंट महिलाओं को अपने डॉक्टर तक मुफ्त में पहुचाता भी है।