अपनी ही पार्टी की बुराई कर किया इस्तीफे का ऐलान, नीतीश कुमार के…

0
123

बिहार की राजनीति एक बार फिर गर्मा गई है। हर बार तो विपक्ष द्वारा पार्टी को गलत बताया जाता है, लेकिन इस बार पार्टी के ही मंत्री ने पार्टी को गलत बताया है। जिसके चलते अब पार्टी विपक्ष के निशाने पर है। हम बात कर रहे हैं बिहार में मौजूद नीतीश कुमार सरकार की। पार्टी के ही मंत्रियों और विधायकों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की परेशानियां बढ़ा दी हैं। जानकारी के मुताबिक पार्टी के वरिष्ठ मंत्री मदन साहनी (Madan Sahani) ने इस्तीफा देने की बात कर दी है। उनका कहना है कि वह अपने विभाग के छोटे से लेकर बड़े सभी अधिकारियों से तंग आ गए हैं और उनके पास इस्तीफा देने के सिवा कोई और रास्ता नहीं है।

उन्होंने कहा कि “उनके अपने विभाग में प्रधान सचिव हो या चपरासी, कोई उनकी नहीं सुनता।” गौरतलब हैं कि मदन ने ये घोषणा दरभंगा से की है। शनिवार को वापस लौट वह अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। इसके साथ ही उन्होंने एक बात साफ कर दी है कि वह इस्तीफा देने के बाद भी पार्टी में ही रहेंगे। बता दें कि अधिकारियों के तबादले के संबंध में मदन ने सिफारिश की थी, लेकिन प्रधान सचिव द्वारा उनकी सिफारिश को अनसुना कर दिया गया था।

इस बीच कई मंत्रियों ने विभाग के सचिव के ख़िलाफ़ मुखर होने का फ़ैसला किया है। क्योंकि वह अपनी मर्जी से तबादले नहीं कर पाए। बता दें कि इस दौरान मदन की आवाज से आवाज मिलने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitin ram manjhi) सामने आए और कहा कि “ये बातें उन्होंने एनडीए विधायक दल में पूर्व में उठाई थी और जब तक विधायकों और मंत्रियों का सम्मान अधिकारी नहीं करेंगे असंतोष बढ़ेगा।” मदन के इस्तीफे की बात से नीतीश सरकार में खलबली मची हुई है।