AMFI ने पत्रकारों को सिखाये वित्त प्रबंधन के गुर

0
77

एसोसिएशन ऑफ म्यूच्यूअल फंड इन इंडिया के तत्वाधान में पत्रकार बंधुओं के लिए “व्यक्तिगत वित्त प्रबंधन” विषय पर जिला पंचायत सभागार में सेमिनार का आयोजन किया गया। भारत में सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया वित्तीय क्षेत्र का सर्वोच्च नियंत्रक हैं। इस के तत्वाधान में समस्त वित्तीय सेवा प्रदाताओं के साथ मिलकर निवेशकों को उनके सुरक्षित निवेश के साथ साथ आर्थिक सुरक्षा प्राप्ति के साधन भी बताए जा रहे हैं।

वेबीनार का उद्घाटन जिला पंचायत अध्यक्ष मधु चौहान और सूचना महानिदेशक बंशीधर तिवारी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया ।अपने उदबोधन में उन्होंने कहा कि वित्तीय साक्षरता आज के समय में एक समीचीन विषय है। वर्तमान समय हमारे सामने वित्तीय सुरक्षा के कई प्रश्न लेकर आया है ।इस काल मे अपने अस्तित्व को बचाने के साथ साथ वित्तीय सशक्तिकरण भी एक महत्वपूर्ण प्रश्न है ।आज के शिक्षण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए वित्तीय नियोजन सीखना एक महत्वपूर्ण विषय है। एसोसिएशन ऑफ म्यूच्यूअल फण्ड इन इंडिया साधुवाद के पात्र हैं जिन्होंने अपनी जिम्मेदारियों के तहत इस विषय पर सेमिनार का आयोजन किया है ।

कार्यक्रम के आयोजन सचिव कुंवर राज द्वारा सभी का स्वागत करते हुए कार्यक्रम के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि पत्रकार भाइयों की जीवन शैली में व्यक्तिगत वित्त प्रबंधन लगभग नगण्य है वहीं यह भी सच्चाई है की भविष्य की सुरक्षा हेतु यह आवश्यक है इसलिए विषय की आवश्यकता एवं महत्व को समझते हुए इस पर कार्यशाला आयोजित की जा रही है। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि भूपेंद्र कंडारी अध्यक्ष उत्तराखंड पत्रकार यूनियन, निशीथ जोशी संपादक पंजाब केसरी व बीडी शर्मा अध्यक्ष देवभूमि पत्रकार यूनियन ने भी संबोधित किया।

वेबीनार के मुख्य वक्ता सूर्यकांत शर्मा मुख्य सलाहकार एसोसिएशन ऑफ म्यूच्यूअल फंड इन इंडिया उत्तरी क्षेत्र तथा पूर्व डी जी एम,सेबी द्वारा अपने वक्तव्य के वर्तमान समय में निवेश के परिदृश्य को प्रस्तुत किया गया। श्री शर्मा ने सर्वप्रथम आगाह किया कि आने वाला कम से कम 1 वर्ष हम सब के लिए आर्थिक रूप से कठिन होने वाला है। इसीलिए सबसे पहले अगले 1 वर्ष के लिए अपने मासिक खर्चों के बराबर का पैसा बिल्कुल अलग कर लें तथा साथ ही साथ अगले 1 वर्ष में जो भी आपके सामाजिक एवं पारिवारिक जिम्मेदारियां पूरी करनी है उसके लिए भी पर्याप्त राशि रख लें और इस राशि को आप अपने बचत खाते फिक्स डिपाजिट, लिक्विड फंड शॉर्ट टर्म फंड, अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड में निवेश कर सकते हैं।

इसके बाद अगर आपके पास जो भी शेष राशि रहती है और अगले 3 वर्ष तक इसकी आवश्यकता नहीं है तो इसको आप अच्छे डेट फंड में निवेश कर सकते हैं यदि अगले 5 वर्ष तक आपको इस राशि की आवश्यकता नहीं है तो आप इसे अच्छे लार्ज कैंप फंड अथवा बैलेंस फंड में निवेश कर सकते हैं। श्री शर्मा ने म्यूचुअल फंड के बारे में विस्तार से जानकारी दी और बताया कि साधारण निवेशको की हर जरूरत के लिए म्यूच्यूअल उपलब्ध है ।

उन्होंने प्रधानमंत्री वय वंदना योजना के विषय में भी जानकारी दी। शर्मा ने आगाह किया कि आने वाले समय में ऐसी संभावना है कि अनेकों लोग कम समय में ज्यादा फायदा देने वाली स्कीम लेकर निवेशकों को लुभाने का पूरा प्रयास करेंगे आपको ऐसी स्कीम में कभी भी लालच में आकर अपना पैसा निवेश नहीं करना चाहिए। शर्मा ने प्रश्नोत्तर काल में सभी प्रतिभागियों के प्रश्नों के उत्तर भी दिए।

प्रश्नोत्तर काल का संचालन डॉ संजय कुमार अग्रवाल द्वारा किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन पत्रकार मोनिका द्वारा किया गया। प्रतिभागियों द्वारा अपने फीडबैक में इस प्रकार के विषय को उपयोगी बताते हुए भविष्य में भी इस प्रकार के समसामयिक विषयों पर वेबीनार आयोजित करने की आवश्यकता बताई। कार्यक्रम में गणमान्य व्यक्तियों के साथ साथ काफी संख्या में पत्रकार बंधुओं ने प्रतिभाग किया।