विरोध प्रदर्शन के दौरान किसानों ने जीता लोगों का दिल, टिकरी बॉर्डर पर फंसे…

0
175

भारत सरकार द्वारा पार्लियामेंट में दाखिल किए गए कृष बिल के पास होने के बाद से ही देश भर के किसान इसका विरोध कर रहे हैं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि ज़्यादातर नेता और राजनीतिक दल भी किसानों के पक्ष में खड़े हो गए। जिसके बाद से ये आंदोलन बढ़ता जा रहा है। इन नए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ अब किसानों का विरोध प्रदर्शन दिल्ली तक पहुंच चुका है। दिल्ली में पहुंचे किसानों की आज बैठक होनी है। जिसमें वह आगे की रणनीति तय करेंगे। हजारों किसानों ने कृष बिल के विरोध में शुक्रवार-शनिवार की रात हरियाणा-दिल्ली सिंघु बॉर्डर पर गुजारी।

किसानों की सुरक्षा के लिए दिल्ली सरकार ने बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बल तैनात की है। दिल्ली सरकार द्वारा बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड में शांतिपूर्ण प्रदर्शन की इजाजत मिलने के बाद पंजाब और हरियाणा से किसानों का नया जत्था भी रवाना हो चुका है। वहां किसानों की जरूरत की सारी सुविधाएं उपलब्ध करा रखी हैं। इस प्रदर्शन के दौरान भी किसानों की दरियादिली देखने को मिली। प्रदर्शनकारियों के बीच एक एम्बुलेंस फंस गई थी। जिसको बाहर निकालने के लिए प्रदर्शन कर रहे किसानों ने रास्ता दिया।

बता दें कि टिकरी बॉर्डर पर हंगामा करते हुए भी किसानों ने प्रदर्शनकारियों के बीच फंसे एक एम्बुलेंस को वहां से निकलने में पूरी मदद की। एम्बुलेंस को निकालने के लिए किसानों ने तुरंत रास्ता बनाया। सिर्फ इतना ही नहीं रास्ते में लगे बैरिकेड (Baricade) को भी हटाने के लिए सभी आगे बढ़े। 17 सितंबर 2020 को लोकसभा (loksabha) से ये बिल पास कर दिया गया था। वहीं 20 सितंबर को राज्यसभा से भी इस बिल को पास कर दिया गया।