उत्तराखंड: अंकिता मर्डर केस से गुस्से में देवभूमि, शव बरामद, रिसॉर्ट पर चला JCB

0
51

ऋषिकेश : अंकिता भंडारी की हत्या की बात सामने आने के बाद से ही लोगों में भारी आक्रोश है। अंकिता का शव चीला नहर से बरामद हो गया है। पुलिस अब आगे की कार्रवाई में जुट गई है। आरोपियों ने जुर्म छिपाने के लिए शातिराना अंदाज से साजिश रची थी। अंकिता के एक दोस्त के जरिए पूरा मामला खुला है। फेसबुक से अंकिता की दोस्ती जम्मू में नौकरी करने वाले पुष्प दोस्ती हुई थी।

घटना के अगले दिन ही पुष्प ऋषिकेश पहुंच गए। उन्होंने अंकिता के परिजनों और पुलिस को बताया कि रात को उनकी घटना की रात को अंकिता से बात हुई थी। अंकिता ने कहा वह फंस गई है। उसने यह भी कहा रिजॉर्ट संचालक और मैनेजर ने उस पर ग्राहकों से शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बनाया।

उसने कहा कि अंकिता वह जिम में हैं। पुष्प ने कहा कि इसके बाद उसने होटल के शेफ से बात की। शेफ ने बताया कि अंकिता को उसने नहीं देखा, अंकित उर्फ पुलकित उनका खाना लेकर कमरे में गया था। सुबह पुष्प को अंकित उर्फ पुलकित गुप्ता ने खबर दी अंकिता कहीं चली गई है।

 

तीनों आरोपी घटना के दिन रात को 8.30 अंकिता को अपने साथ बाहर ले गए, जबकि वह बाहर नहीं जाना चाहती थी। बैराज से हरिद्वार की ओर करीब डेढ़ किलोमीटर दूर चीला शक्ति नहर में तीनों ने उसको धक्का दे दिया। वापस रिर्जार्ट पहुंचे तो अंकिता साथ नहीं थी। लेकिन कर्मचारियों को बताया कि अंकिता कमरे में चली गई है। अंकिता के लिए कमरे में खाना मंगाया गया। इसके बाद अगले दिन अंकिता की गुमशुदगी की जानकारी उसके पिता को दी और राजस्व चौकी में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई।

करीब 7-8 साल पहले भी वनंत्रा रिजॉर्ट से एक कर्मचारी प्रियंका गायब हुई थी। रिजॉर्ट संचालक ने बताया कि था कि युवती रिजॉर्ट से सामान और पैसे लेकर भाग गई है। बताया कि इसके युवती का कोई अता पता नहीं चला।