टोक्यों ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम का कहर, आस्ट्रेलिया को हराकर बनी…

0
295

टोक्यों ओलंपिक (Olympics 2020) में भारत के लिए एक और बड़ी खुशखबरी सामने आई है। ओलंपिक के खेलों के दौरान महिलाओं ने साबित कर दिया है कि वह पुरुषों से कम नहीं हैं। पहले मीराबाई चानू, मैरीकॉम और पीवी सिंधु ने कमाल दिखाया तो अब भारत की महिला हॉकी टीम (Indian Women Hockey Team) ने भी अपना कारनामा दिखा दिया है। बता दें कि भारत के लिए महिला हॉकी टीम ने इतिहास रच दिया है। भारतीय पुरुष टीम के 49 वर्ष बाद ओलंपिक सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद सोमवार को महिला टीम ने आस्ट्रेलिया की विश्व में नंबर दो टीम को 1-0 से हराकर अंतिम चार में जगह बना ली है।

उनकी इस सफलता की हर कोई तारीफ कर रहा है। सेमीफ़ाइनल में भारत का मुक़ाबला अर्जेन्टीना से होगा। महिलाओं की इस जीत को देखते हुए पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान वीरेन रासकुइन्हा ने कहा कि “भारतीयों ने जिस तरह से अपने गोल का बचाव किया उससे काफी प्रभावित हूं। उन्होंने केवल बचाव ही नहीं किया उन्होंने बढ़त मजबूत करने की भी कोशिश की। उन्होंने आस्ट्रेलियाई सर्किल में घुसने में हिचकिचाहट नहीं दिखायी।” बता दें कि इस मुकाबले के दौरान केवल एक ही गोल हुआ और इस गोल को ड्रैगफ्लिकर गुरजीत कौर ने 22वें मिनट में पेनल्टी कार्नर पर गोल किया।

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी टीम को बधाई दी। उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा कि “शानदार प्रदर्शन। महिला हॉकी टीम हर कदम पर इतिहास रच रही है। आस्ट्रेलिया को हराकर हम पहली बार ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंच गये हैं।” सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि देश के पूर्व खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने भी टीम की खूब तारीफें की। उन्होंने कहा कि “भारत का सपना सच हो रहा है। हमारी महिला हॉकी टीम ने आस्ट्रेलिया को हराया। भारत की पुरुष और महिला टीम तोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुंच गयी है। मेरे पास अपनी खुशी व्यक्त करने के लिये शब्द नहीं हैं।”