टीपू सुल्तान का बेटा सिद्धारमैया, बयान को लेकर मुश्किल में पड़े कर्नाटक के पूर्व मंत्री, मामला दर्ज

0
79

कर्नाटक : पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक सीएन अश्वथ नारायण सिद्धारमैया को लेकर दिए गए अपने विवादित बयान को लेकर फंसते नजर आ रहे हैं। उनके खिलाफ मैसूर के देवराज पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई है। वहीं, कांग्रेस नेता उनकी गिरफ्तारी की भी मांग कर रहे हैं।

गौरतलब है, अश्वथ नारायण ने कहा था कि टीपू का बेटा सिद्धारमैया आएगा…क्या आप टीपू या सावरकर चाहते हैं? हमें टीपू सुल्तान को कहां भेजना चाहिए? उरी गौड़ा और नन्जे गौड़ा ने क्या किया? उसी तरह उन्हें भी बाहर कर दिया जाना चाहिए और भेज दिया जाना चाहिए। हालांकि, बाद में अपने बचाव में पूर्व मंत्री अश्वथ नारायण ने कहा था कि उन्होंने सिद्धारमैया की तुलना टीपू सुल्तान से की थी। उन्होंने टीपू सुल्तान के प्रति सिद्धारमैया के प्यार के बारे में बात की है। उनके बारे में अपमानजनक बात नहीं की है।
नारायण ने कहा था कि मैंने कांग्रेस पार्टी को हराने का आह्वान किया है। मेरी कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है। यह एक वैचारिक अंतर है। अगर उन्हें ठेस पहुंची है तो मैं उनसे माफी मांगता हूं। मंत्री के विवादित बयान पर सिद्धारमैया ने कहा था कि मंत्री को बंदूक खुद उठा लेना चाहिए। सिद्धारमैया ने कहा कि मंत्री अश्वथ नारायण ने लोगों को मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की तरह मुझे खत्म करने का आह्वान किया था। मैं उनकी हत्या के आह्वान से हैरान नहीं हूं। हम इनके नेताओं से प्यार, सहानुभूति, और दोस्ती की उम्मीद कैसे कर सकते हैं। वह पार्टी जो महात्मा गांधी की हत्या करने वाले का सम्मान करती है।
सिद्धारमैया ने आगे कहा था कि राज्य के एक मंत्री ने सार्वजनिक रूप से हत्या का आह्वान किया, यह दिखाता है कि सरकार जीवित नहीं, मर चुकी है। उन्होंने मांग की थी कि मंत्री अश्वथ नारायण को तुरंत कैबिनेट से हटा दिया जाना चाहिए। सिद्धारमैया ने कहा कि उन्होंने मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति की तरह बयान दिया। अगर उन्हें बर्खास्त और गिरफ्तार नहीं किया जाता है, तो इसका मतलब है कि भाजपा भी मान रही है कि मंत्री अश्वथ नारायण वास्तव में मानसिक रूप से विक्षिप्त हैं।