देश के ये बड़े बैंक दे रहे हैं FD पर तगड़ा रिटर्न

0
43

बैंक FD अभी भी एक लोकप्रिय निवेश विकल्प है। माना जाता है कि इसमें निवेश का ट्रेंड केवल बुजुर्ग या नौकरी से रिटायर लोगों में है, लेकिन हाल के दिनों में यह धारणा बदल गई है। लोग नियमित आय चाहते हैं और अपना पैसा अधिक सुरक्षित जगह लगाना चाहते हैं। उनके लिए यह निवेश का सबसे बेहतर विकल्प है। कई बैंकों ने इस प्रवृत्ति को भुनाने के लिए अपनी एफडी दरों में संशोधन किया है। SBI, HDFC और ICICI जैसे बड़े बैंकों ने हाल में फिक्स्ड डिपॉजिट की दरें बढ़ाई हैं।

FD में अधिक निवेश अच्छी बात है, लेकिन आपको कितना पैसा लगाना है, यह तय करने से पहले आपको अपने एसेट एलोकेशन और लक्ष्यों का मूल्यांकन करना चाहिए। 7 दिसंबर को भारतीय रिजर्व बैंक ने प्रमुख रेपो दर को 35 आधार अंकों से बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत कर दिया, जो मई के बाद से पांचवी सीधी बढ़ोतरी है। आरबीआई ने इस साल मई से बेंचमार्क दर में 2.25 फीसदी की बढ़ोतरी की है। स्थायी जमा सुविधा (SDF) दर को 6 प्रतिशत और सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) दर और बैंक दर को 6.50 प्रतिशत पर समायोजित किया गया है।

RBI की ब्याज दर में बढ़ोतरी के बाद, एसबीआई, एचडीएफसी औरआईसीआईसीआई ने भी विभिन्न अवधियों के लिए अपनी एफडी ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। हम आपको बताते हैं कि किस बैंक की क्या ब्याज दरें हैं। एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक की सावधि जमा ब्याज दरों की तुलना की गई है। घरेलू / एनआरओ / एनआरई सावधि जमा दर8 नवंबर, 2022 से लागू। (वरिष्ठ नागरिक दरें एनआरआई पर लागू नहीं होती हैं। एनआरई जमा के लिए न्यूनतम अवधि 1 वर्ष है।

jagran

एचडीएफसी के घरेलू / एनआरओ / एनआरई सावधि जमा की नई दर 8 नवंबर, 2022 से लागू हो गई है । (वरिष्ठ नागरिक दरें एनआरआई पर लागू नहीं होती हैं। एनआरई जमा के लिए न्यूनतम समय-सीमा 1 वर्ष है।

jagran

एसबीआई ने खुदरा घरेलू सावधि जमा पर ब्याज दरों में संशोधन (2 करोड़ रुपये से कम) की घोषणा की है। नया संशोधन 13.12.2022 से लागू हो गया है। सरकार ने दो करोड़ रुपये से कम खुदरा घरेलू सावधि जमा ब्याज दरों में संशोधन किया गया है। संशोधित ब्याज दरें इस तरह हैं…

jagran

एसबीआई स्टाफ और एसबीआई पेंशनभोगियों को एक फीसद अधिक ब्याज दिया जाएगा।

ब्याज दरें नए और मयोचोर हो चुके डिपॉजिट को रिन्यू कराने पर लागू होंगी। ‘एसबीआई कर बचत योजना’ (एसबीआईटीएसएस) की खुदरा जमाराशियों और एनआरओ जमाराशियों पर ब्याज दरें घरेलू खुदरा मियादी जमाराशियों की दरों के अनुरूप होंगी। स्टाफ के एनआरओ डिपॉजिट अतिरिक्त 1% ब्याज के लिए पात्र नहीं हैं। बैंक ने कहा कि ये ब्याज दरें एसबीआई के अंतर्गत आने वाले सहकारी बैंकों के घरेलू सावधि जमा पर भी लागू होती हैं।