जन्माष्टमी पर थी देश को दहलाने की साजिश, विस्फोटकों के जखीरे के साथ 6 अरेस्ट

0
116

उत्तर प्रदेश एटीएस और कानपुर अपराध शाखा ने संयुक्त अभियान में गुरुवार (25 अगस्त) को शहर के ग्रामीण क्षेत्र घाटमपुर से हथियारों का एक बड़ा जखीरा बरामद किया। इसमें 30 हजार डेटोनेटर, 20 हजार जिलेटिन राड और 600 किलोग्राम अमोनियम नाइट्रेट शामिल है। इस मामले के सिलसिले में कानपुर के घाटमपुर से पांच लोगों और झांसी जिले के मोठ से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में एटीएस और क्राइम ब्रांच की कार्रवाई अभी चल रही है, अभी और गिरफ्तारियां हो सकती हैं साथ ही और विस्फोटक बरामद होने की उम्मीद है। पकड़े गए पांच लोग बिहार के रहने वाले हैं। एटीएस की एक टीम बिहार भी भेजी जा रही है। भारी संख्या में विस्फोटक किसलिए इकट्ठा किया गया था इसका पता लगाने की कोशिश हो रही है।
उत्तर प्रदेश एटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि इस साल ईद पर कानपुर में कुछ विस्फोटक पदार्थ बरामद किए गए थे जिसके बाद एटीएस और कानपुर अपराध शाखा मिलकर विस्फोटक पदार्थों को बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश करने में लगी थी। गुरुवार (25 अगस्त) तड़के घाटमपुर से गिरफ्तार किए गए पांच लोगों से जब पूछताछ की गई तो इन्होंने बताया कि यह लोग यह विस्फोटक सामग्री झांसी के मोठ के चरण सिंह के पास से लाते थे और इसे पूरे देश में आपूर्ति करते थे। इस पर एक टीम तुरंत झांसी के मोठ रवाना की गई और वहां से चरण सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। उसके पास से भी कुछ विस्फोटक सामग्री बरामद हुई है।
कानपुर के एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि ईद के समय कानपुर में कुछ विस्फोटक मिलने के बाद से ही पुलिस सर्तक थी और गिरोह के लोगों की तलाश में थी। उन्होंने कहा कि घाटमपुर में पकड़े गये पांच लोग बिहार के रोहतास के रहने वाले हैं और इनके खिलाफ घाटमपुर में एफआईआर दर्ज की जा रही है। एक दूसरी एफआईआर झांसी के मोठ में भी लिखी जा रही है। घाटमपुर तथा झांसी में पकड़े गए लोगों को आमने सामने बिठाकर पूछताछ की जाएगी। उन्होंने बताया कि घाटमपुर में पकड़े गए लोगों ने बताया कि वे झांसी से यह विस्फोटक सामग्री लाते थे। उन्होंने कहा कि पुलिस अभी भी छापेमारी कर रही है। उन्होंने कहा कि अभी इस मामले में विस्तृत जानकारी का इंतजार है और इस संबंध में एटीएस देर शाम प्रेस कांफ्रेस कर सकती है।