आरी से किए शव के हिस्से, बोला- पिता की गर्दन काटते समय कांपे थे हाथ

0
68

गोरखपुर : पिता की हत्या के बाद प्रिंस घर में रखा सब्जी काटने वाला चाकू लाया और पिता की गर्दन काटने लगा। धार तेज नहीं होने की वजह से चाकू मुड़ गया। इसके बाद वह घर में रखा आरी वाली ब्लेड लाया और गर्दन काटकर अलग कर दी। तिवारीपुर में पिता की हत्या करने के आरोपी प्रिंस से पुलिस ने पूछताछ की तो उसके चेहरे पर कोई पछतावा नहीं दिखा। पुलिस को उसने बताया कि पिता की गर्दन काटते समय उसके हाथ कांप रहे थे, लेकिन मारने का कोई पछतावा नहीं है। यह भी बताया कि हत्या के बाद वह शव के टुकड़े करके सूटकेस में भरकर दूर ले जाकर फेंक देता, ताकि किसी को पता न चले, लेकिन छोटे भाई के आ जाने से सूटकेस को गली में रखना पड़ा।

छोटे भाई प्रशांत ने बताया कि वह जब घर पहुंचा तो भाई बाहर ही मिल गया था। पिता के बारे में पूछने पर उसके चेहरे से नहीं लग रहा था कि उसने हत्या की है। उसने आराम से बताया कि शाम सात बजे से ही पिता नहीं दिखे हैं, कहीं गए होंगे। इसके बाद जब पुलिस को सूचना दी गई तब भी वह आराम से खड़ा था।

पुलिस की सख्ती पर उसने बताया कि पिता की हत्या कर दी है और शव के पास ले गया। प्रशांत ने बताया कि पूजा घर में खून के छींटे दिखे थे। उसे साफ किया गया था, लेकिन पूरी तरह से साफ नहीं हो पाया था। तभी उसे भाई पर शक हो गया था। इसकी एक वजह यह भी कि पिछले कुछ दिनों से वह पिता से अक्सर झगड़ा कर रहा था। बैंक का कर्ज चुकाने के लिए पिता ने पैसे देने से इंकार किया तो बेटे ने सिर पर सिल-बट्टा मारकर हत्या कर दी। इसके बाद गर्दन को चाकू और आरी से काटकर अलग कर दिया। फिर शव के टुकड़े करके उसे सूटकेस में भरकर घर के बगल की गली में चाय की दुकान में छिपा दिया।
वारदात शनिवार की रात तिवारीपुर इलाके के सूर्य विहार आवास विकास कॉलोनी में हुई। मधुर मुरली गुप्ता (62) का बड़ा बेटा प्रिंस बैंक का 40 हजार कर्ज देने के लिए पैसे मांग रहा था। किस्तें नहीं दे पाने पर बैंक वाले उसकी बाइक लेकर चले गए थे। मधुर के पैसे देने से मना करने पर प्रिंस ने उनकी हत्या कर दी। वह पिता के शव को ठिकाने लगा ही रहा था कि उसका छोटा भाई प्रशांत घर आ गया। उसने पिता को न देखकर संदेह होने पर पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने जांच के बाद आरोपी प्रिंस गुप्ता उर्फ संतोष को हिरासत में लिया। पूछताछ में उसने हत्या की बात कबूल कर ली।