US में 9/11 के बाद सबसे बड़ा आतंकी हमला, गूंजी गोलियों की आवाज

0
114

ओरलैंडो : फ्लोरिडा के ओरलैंडो स्थित एक ‘गे क्लब’ में भारी हथियारों से लैस हमलावर ने शनिवार की देर रात अंधाधुंध गोलियां चलाये जाने और कुछ लोगों को बंधक बना लेने के हादसे में 50 लोग मारे गये, जबकि 53 अन्य अस्पताल में भरती हैं. पुलिस का कहना है कि अमेरिका के इतिहास में अब तक का यह सबसे भयावह गोलीबारी कांड है. ओरलैंडो के मेयर बडी डेयर ने घटना की पुष्टि की है. मीडिया के अनुसार हमलावर अफगान मूल का अमेरिकी नागरिक था. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इसे आतंकी हमला करार दिया है.

एफबीआइ अधिकारी रोनाल्ड हॉपर ने कहा कि हमें विश्वास है कि क्षेत्र में या अमेरिका को फिलहाल कोई आसन्न खतरा नहीं है. ओरलैंडो में आपात स्थिति घोषित कर दी है. फ्लोरिडा सरकार से पूरे राज्य में ऐसे ही कदम उठाने का अनुरोध किया है. संघीय सरकार ने जांच में अपनी ओर से पूर्ण सहयोग की पेशकश की है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हादसे में मारे गये सभी लोग हमलावर की गोलियों से मरे हैं, या फिर मुठभेड़ के दौरान पुलिस की ओर से चलायी गयी गोलियों से. हमला ऐसे वक्त में हुआ है, जब अमेरिका में ‘गे प्राइड’ महीना मनाया जा रहा है.
फ्लोरिडा के अफसरों ने मीडिया से बातचीत करने के लिए एक स्थानीय इसलामी नेता को बुलाया है, ताकि मुसलिम समुदाय के खिलाफ किसी प्रकार का गुस्सा फूटने से रोका जा सके.
शनिवार को अमेरिकी समय के मुताबिक रात करीब दो बजे, क्लब बंद होने वाला था, तभी वहां संगीत के साथ-साथ गोलियों की आवाज गूंजी. भारी हथियार व एक बंदूकों से लैस हमलावर ने गोलियां चलायीं. फिर पुलिस और हमलावर के बीच मुठभेड़ शुरू हो गयी. इस बीच हमलावर क्लब के भीतर घुस गया और वहां और गोलियां चलीं. यह बंधकवाली स्थिति में बदल गया. रविवार की सुबह करीब पांच बजे, अंदर मौजूद बंधकों को छुड़ाने का फैसला लिया गया. पुलिस ने विस्फोटक व बख्तरबंद गाड़ी‘बीयरकैट’ की मदद से क्लब की दीवार गिरायी व अंदर घुसे. अभियान में करीब 30 लोगों को बाहर निकाला गया.

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि फ्लोरिडा के ओरलैंडो के एक नाइटक्लब में हुई ‘‘भयावह’ अंधाधुंध गोलीबारी एक ‘‘आतंकी’ और ‘‘नफरत’ का कृत्य है. उन्होंने अपने देश के लोगों को बंदूकों तक आसान पहुंच की भी याद दिलाई. ओबामा ने कहा, ‘‘यह एक आतंकी और नफरत का कृत्य था.’ उन्होंने यह भी कहा कि एफबीआई इसे आतंकवादी घटना मानकर जांच कर रही है. बहरहाल, पत्रकारों से ओबामा ने कहा कि इस गोलीबारी के पीछे की वजह का अब तक सही-सही कुछ पता नहीं चल सका है. ओबामा ने कहा, ‘‘यह समलैंगिक समुदाय के लिए दिल तोडने वाला दिन है.’ उन्होंने कहा, ‘‘गोलीबारी अमेरिकी इतिहास की सबसे जानलेवा गोलीबारी है.’ उन्होंने यह भी कहा कि यह इस बात की भी याद दिलाता है कि ऐसी हिंसा के लिए किसी को कितनी आसानी से बंदूकें मिल जाती हैं. ओबामा ने कहा कि अमेरिका के लोगों को तय करना होगा कि ‘‘क्या हम एक ऐसा देश बनना चाहते हैं’ जहां बंदूकों तक आसान पहुंच हो.’ उन्होंने कहा, ‘‘हम डरने वाले नहीं हैं. इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’ यह 15वीं बार है जब ओबामा ऐसी गोलीबारी के बाद राष्ट्र को संबोधित करने सामने आए हों.
इस बीच, फ्लोरिडा में हुई गोलीबारी के बाद इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ओबामा को शोक संदेश भेजा. नेतन्याहू ने कहा कि ओरलैंडों में समलैंगिक समुदाय पर हुए भयावह हमले के बाद मैं इस्राइल के लोगों और सरकार की तरफ से अमेरिका के लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं. उन्होंने कहा कि दुख की इस घडी में इस्राइल अमेरिका के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खडा है. पोप फ्रांसिस ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह ‘‘हिंसक मूर्खता और बेमतलब नफरत’ है. ‘होली सी’ से जारी एक बयान में कहा गया कि इस घटना ने पोप फ्रांसिस और हम सब में खौफ और निंदा की भावनाएं भर दी हैं. यह हिंसक मूर्खता और बेमतलब नफरत है.